Loading...

आखिरी वक़्त में इलाज को तरस गए थे शोले के ‛इमाम साहब’, इस को-एक्टर ने 20 लाख देकर की थी मदद

0 20

Sholay फिल्म में ‘इतना सन्नाटा क्यों है भाई’ डायलॉग से मशहूर हुए, ए के हंगल बॉलीवुड में एक जाने-माने सितारे थे. इस एक डायलॉग के कारण हंगल जी काफी मशहूर हो गए थे. हंगल साहब ने 225 फिल्मों में काम किया था. 26 अगस्त 2012 को 98 वर्षीय हंगल साहब की मृत्यु हो गई थी. हंगल साहब का आखिरी वक्त बड़ा ही तंगी से गुजरा, हालात इतने खराब हो गए थे कि उनके पास इलाज कराने के लिए भी पैसे नहीं थे.

बॉलीवुड में आने से पहले ए के हंगल फ्रीडम फाइटर थे और उन्होंने 52 वर्ष की उम्र में 1996 में बनी फिल्म ‘तीसरी कसम’ से फिल्म इंडस्ट्री में डेब्यू किया. एके साहब ने 225 फिल्मों में किया और उनके कई किरदार आज भी याद किए जाते हैं. एके साहब का फिल्म इंडस्ट्री में 40 वर्षीय करियर बहुत ही जबरदस्त था.

हंगल साहब का आखिरी वक्त बड़ा दयनीय था. हंगल साहब को अपने आखिरी दिन खंडहर जैसे घर में गुजारने पड़े. पदम भूषण से सम्मानित हंगल साहब 95 साल की उम्र में एक छोटे से कमरे में अपनी जिंदगी गुजारा करते थे.

Loading...

घर की आर्थिक तंगी के कारण हंगल साहब के बेटे ने अमिताभ बच्चन को पैसे ना होने की बात बताई. तब करण जौहर सहित कई सेलिब्रिटी ने उनकी आर्थिक मदद की और उनके इलाज के लिए अमिताभ बच्चन ने 20 लाख रुपए दिए.

हंगल साहब 13 अगस्त 2012 को बाथरूम में गिर गए थे, इससे उनकी जांघ की हड्डी टूट गई और पीठ में भी चोट आ गई थी. इस दुर्घटना के बाद उनको अस्पताल ले जाया गया जहां पर उनकी सर्जरी हुई क्योंकि उन्हें सांस लेने में दिक्कत आ रही थी. हंगल साहब को लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया पर कुछ दिनों में उनके फेफड़ों ने भी काम करना बंद कर दिया और उनका निधन हो गया. हंगल साहब ने 2008 में अपनी आखरी फिल्म ‘हमसे है जमाना’ में काम किया और 2012 में टीवी सीरियल ‘मधुबाला: एक इश्क एक जुनून’में कैमियो का रोल निभाया था.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.