Loading...

अब भाजपा के शासन में तैयार होगा ‛अहिंसा मीट’, जल्द ही मिलेगा खाने को

0 25

बिना किसी जानवर की जान लिए तैयार होने वाला मीट अब भारत में भी आ रहा है. केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी ने भारत में क्लीन मीट जिसे ‘अहिंसा मीट’ नाम दिया है उसे लाने का जिक्र छेड़ दिया है. क्लीन मीट के फार्मूले यूरोपीय देशों में पहले से ही जारी है पर अब भारत में भी क्लीन मीट आ रहा है.

हैदराबाद में केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्रालय की बैठक हुई. इस बैठक में क्लीन मीट के बारे में जिक्र किया गया और कहा कि, 66% लोग परंपरागत मीट के साथ अहिंसा मीट खाने को तैयार है, वही 53% लोग अहिंसा मीट आने पर परंपरागत मीट छोड़ने तक को भी तैयार है. 46 फ़ीसदी लोग अहिंसा मीट मिलने पर रोज इसे खरीदने को तैयार है.

नीदरलैंड के वैज्ञानिक मार्क पोस्ट ने 2013 में क्लीन मीट बनाया था. यूएन फूड एंड एग्रीकल्चर ऑर्गनाइजेशन की रिपोर्ट के अनुसार 2050 तक दुनिया में 70% तक मीट की मांग बढ़ जाएगी इसलिए क्लीन मीट एक जबरदस्त विकल्प है.

हैदराबाद में “फ्यूचर ऑफ प्रोटीन-फूड टेक रेवॉल्यूशन’ विषय पर बैठक में मेनका ने कहा की, भारत में अहिंसा मीट आ जाने से गौ हत्या और इसकी वजह से होने वाली लीचिंग पर रोक लगेगी. मेनका ने कहा कि सामान्य मीट को अहिंसा मीट में रिप्लेस करके खा सकते हैं. अगर अहिंसा मीट भारत में आता है तो सूचना प्रौद्योगिकी और बिजली के बाद भारत की सबसे बड़ी उपलब्धि होगी. मेनका गांधी ने कहा कि भारत की प्रयोगशाला क्लीन मीट को तैयार कर सकती है. इस मीट को 5 साल में बाजार में लाने का लक्ष्य है.

Loading...

मेनका ने बताया अगर अहिंसा मीट भारत आता है तो 53 प्रतिशत लोग परंपरागत मीट को खाना छोड़ देंगे. 46% लोग अहिंसा मीट आ जाने से इसे रोज खरीद कर खाएंगे. अहिंसा मीट एक ऐसा मीट है जिसमें जानवर की हत्या किए बिना उसके एक स्टेम सेल से लेब में पूरा मीट तैयार हो जाएगा.

जानवर की हत्या किए बिना तैयार होने पर इसे क्लीन मीट कहते हैं. यह मीट पारंपरिक मीट की तुलना में महंगा हो सकता है, लेकिन अच्छी टेक्नोलॉजी होने के कारण सस्ता भी हो सकता है. बैठक में शामिल विशेषज्ञों ने कहा कि उपभोक्ताओं को अपने खाने की आदत बदल कर 3R फार्मूला इस्तेमाल करना होगा. अर्थात रिड्यूसिंग (पुराने खाने को घटाना), रिप्लेसिंग (नए खाने को लाना) और रिफाइनिंग (पोषक तत्वों को लेना).

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.