Loading...

अद्भुत: धीरे-धीरे इस शिव मंदिर के नंदी का बढ़ रहा है आकर, इस रहस्य से हैरान हैं सभी

0 22

शिवजी को नंदी बहुत प्रिय होता है। लोगों का मानना है कि बिना नंदी की कृपा के शिवजी की कृपा मिलनी मुश्किल है। इसी वजह से हर शिव मंदिर में या उसके गृभ ग्रह में नंदी की प्रतिमा अवश्य होती है।

लेकिन आज हम एक ऐसे अद्भुत मंदिर के बारे में बताएंगे जहां हर दस साल से नंदी का आकार बढ़ता है। पुरातत्व विभाग भी इस बात की पुष्टि कर चुका है। हर कोई इस रहस्यमयी सच्चाई को जान हैरान है।

वैज्ञानिकों ने भी की पुष्टि

Loading...

बीते कई सालों पहले इस मंदिर की परिक्रमा आसानी से की जा सकती थी। लेकिन अब धीरे धीरे नंदी की मूर्ति का आकार बढ़ रहा है और इस मंदिर में जगह भी कम हो रही है। वैज्ञानिकों का कहना है कि नंदी की प्रतिमा जिस पत्थर से बनी हुई है उस पत्थर की प्रकृति विस्तार वाली है। वहीं वैज्ञानिकों का कहना है नंदी की प्रतिमा हर 20 साल में एक इंच बड़ी हो जाती है। एक अद्भुत रहस्य यह भी है कि एक श्राप की वजह से यहां दूर दूर तक कोई कौवा नजर नहीं आता।

क्या है मंदिर की स्थापना की कहानी?

अगस्त्य ऋषि इस स्थान पर वेंकटेश्वर बनवाना चाहते थे लेकिन मूर्ति स्थापना के दिन ही मूर्ति खंडित हो गई। ऐसे में मंदिर की स्थापना भी रुक गयी। इसके बाद अगस्त्य ऋषि ने शिवजी की आराधना की जिस पर शिवजी ने रक्त होकर कहा कि यह स्थान कैलास पर्वत जैसा दिखाई देता है इसलिए यहां शिवजी का मंदिर बनना उचित रहेगा।

क्यों मंदिर में नहीं दिखते कौए?

कहा जाता है कि अगस्त्य ऋषि को जप ताप करते समय कौए बहुत परेशान करते थे। ऐसे में ऋषि ने श्राप देते हुए कहा कि अब यहां कौए कभी नहीं आ सकते। उस दिन के बाद से ही यहां एक भी कौवा नजर नही आता।

मंदिर के पास है दो गुफाएं

यह अनोखा शिव मंदिर आंध्रप्रदेश के कुरनूल जिले के यांगति इलाके में बना हुआ है। इस मंदिर की स्थाओन अगस्त्य ऋषि ने की थी लेकिन इसके परिसर का निर्माण 15वीं शताब्दी में विजयनगर साम्राज्य के राजाओं ने करवाया। मंदिर के पास दो गुफाएं भी है। एक गुफा में वेंकटेश्वर की खंडित मूर्ति है और दूसरी गुफा में अगस्त्य ऋषि जप तप किया करते थे।

कलयुग के अंत में जाग उठेंगे नंदी महाराज

लोगों का मानना है कि जिस दिन इस धरती पर पाप पूरी तरह से बढ़ जाएगा तो उस दिन नंदी जीवित होकर खड़े हो जाएंगे। उस दिन महाप्रलय आएगा और यह कलियुग समाप्त हो जाएगा।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.