Loading...

हिंदू महासभा की वेबसाइट को हैक कर अपलोड कर दी बीफ बनाने की रेसिपी वीडियो

0 21

हिंदू महासभा की ऑफिशियल वेबसाइट को केरला साइबर वॉरियर्स ने हैक कर लिया है. वहीं हैकर्स ने हिंदू महासभा की वेबसाइट को हैक करने के बाद वेबसाइट पर बीफ बनाने की रेसिपी वीडियो को अपलोड कर दिया है. जब भी हिंदू महासभा की इस वेबसाइट को खोला जा रहा है तो उस पर लिखा आ रहा है HACKED BY GH057_R007, Team Kerala Cyber Warrior. इसके बाद नीचे की तरफ एक वीडियो दिखाई दे रहा है जिसमें बीफ बनाने की पूरी विधि को विस्तार के साथ बताया गया है. वही वेबसाइट पर एक शख्स की फोटो भी लगाई हुई है जो कि अपनी मिडिल फिंगर को दिखा रहा है. उस फोटो में नजर आने वाले शख्स ने अपने चेहरे पर मुखौटा लगाया हुआ है. दरअसल ये वेबसाइट हैकिंग स्पष्ट रूप से एबीएचएम प्रमुख स्वामी चक्रपाणी की विवादास्पद टिप्पणी का ही जवाब थी. उन्होंने कहा था कि केवल उन लोगो को जो कि बीफ का उपयोग नहीं करते उन्हें ही केरल बाढ़ में मदद देनी चाहिए. वहीं उन्होंने यह भी कहा कि इस बाढ़ में कई निर्दोष लोग भी बेमौत मारे गए, क्योंकि कुछ लोग गाय को मारते हैं तो वहीं कुछ लोग दुकानों में बेवजह प्रदर्शन करते हैं.

केरल बाढ़ के लिए चक्रपाणी ने कहा कि मैं केरल में मदद के लिए अपील कर रहा हूं, लेकिन मदद केवल उन लोगों की ही की जानी चाहिए जो कि प्रकृति और प्राणियों दोनों का ही सम्मान करते हो. जब केरल के लोगों के लिए रोटी भी नसीब नहीं थी, तो वह बीफ खाने के लिए लगातार गायों को मार रहे थे. तो मेरा मतलब तो साफ यह है कि हिंदुओं को केवल उन लोगों की ही मदद करनी चाहिए जो कि बीफ ना खाते हो. वहीं उन्होंने यह भी कहा कि केरल में यह बाढ़ गाय की हत्या के कारण ही आई हुई थी. प्रकृति ने उन सभी लोगों को दंड दिया है जो कि इस खूबसूरत धरती पर इतने भयानक पाप करते हैं.

इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि जो कोई लोग बीफ खाने और सड़क पर गाय को मारने की सोच रखकर हिंदू धर्म को चोट पहुंचाने की कोशिश कर रही हैं, उन्हें किसी भी कीमत पर माफ नहीं किया जाना चाहिए. उन्होंने यह भी कहा कि बीफ खाने वालों को बिल्कुल भी मदद नहीं मिलनी चाहिए. अगर उन्हें मदद दी भी जा रही है तो उन्हें एक प्रतिज्ञा पर हस्ताक्षर करने के लिए जरूर कहा जाए कि वह भविष्य में कभी भी बीफ खाने के बारे में नहीं सोचेंगे और ना ही खाएंगे.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.