Loading...

‘मिट्टी के तवे’ पर बनी रोटी खाने के बेहतरीन फायदे, पुरानी पीढ़ी ही जानती है इसके असली फायदे….

0 32

बदलते युग के साथ घरों में से पारंपरिक बर्तन मिटते जा रहे हैं और मॉड्यूलर किचन आ गए हैं। आजकल के घरों में तवो की जगह रोटी मेकर जैसी मशीन आ गई है। जिससे एलुमिनियम और लोहे के तवे से झटपट रोटी बन जाती है।

बड़े बुजुर्ग और आयुर्वेद में कहा गया है कि अगर खाने को आग में धीरे-धीरे पकाया जाता है तो उसके कई फायदे होते हैं। लेकिन स्टील और एल्युमीनियम के बर्तनों में यह बात संभव नहीं है। मिट्टी के बर्तन में खाना हल्की आंच पर आराम से बनाया जाता है जिससे स्वादिष्ट और पौष्टिक भी बनता है।

मिट्टी के तवे पर सिकी हुई रोटी खाने के फायदे

Loading...

मिट्टी के तवे पर जब रोटी बनती है तो उसमें मौजूद तत्व वैसे के वैसे रहते हैं। जबकि एल्युमीनियम और लोहे के बर्तनों में बने खाने के 87 प्रतिशत पोषक तत्व नष्ट हो जाते हैं। पीतल के बर्तनों में 7%, कांसे के बर्तन में 3% पोषक तत्व नष्ट हो जाते हैं। मिट्टी के बर्तनों में ही पोषक तत्व 100 फ़ीसदी तक रहते हैं.

मिट्टी के तवे पर बनने की रोटी स्वादिष्ट और पौष्टिक होने के साथ-साथ गैस से भी राहत दिलाती है। आटा मिट्टी के तत्वों को अवशोषित कर लेता है जिस कारण इसमें मौजूद प्रोटीन शरीर की सभी खतरनाक बीमारियों से सुरक्षा देते हैं।

मिट्टी के तवे को गर्म होने में समय लगता है इस कारण इस पर रोटियां नहीं जलती है और काफी समय तक रोटी खराब भी नहीं होती है। आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में कब्ज एक आम समस्या हो गई है।

अगर कोई व्यक्ति मिट्टी से बने तवे पर सिकी हुई रोटी खाता है तो उसे कब्ज से राहत मिलेगी। मिट्टी के तवे तेज आंच को सहन नहीं कर पाते है और वो चटक जाते हैं इसलिए उन्हें रोटी बनाते वक़्त बीच-बीच में पानी डाल के साफ कपड़े से पोंछ लेना चाहिए।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.