Loading...

अब नकली एंटीबायोटिक दवाइयों की पहचान हुई आसान, नकली दवाई बनाने वाले हो जाएं सावधान……

0 22

लोगों के लिए जहां खुशी की खबर है वही फर्जी और नकली दवा बनाने वालों के लिए सावधान होने की खबर है। जल्द ही बाजार में ऐसी चीजें उपलब्ध होंगी, जिनसे नकली एंटीबायोटिक दवाइयों का आसानी से पता चल जाएगा।

आपको बता दें, देश मे नकली दवाइयों का कारोबार काफी बड़ा है जो देश के लिए खतरा है। इसके लिए वैज्ञानिक एक ऐसी पेपर प्रणाली विकसित की है जिसकी मदद से नकली और असली दवाई में फर्क किया जा सके। इससे दवाई के असली या नकली होने का पता चलेगा।

इस पेपर के प्रयोग करने पर अगर दवा नकली है तो यह पेपर लाल रंग में बदल जाएगा। कई देशों में नकली दवाओं का बड़े स्तर पर उत्पादन और वितरण होत है। डब्ल्यूएचओ के मुताबिक दुनिया मे लगभग 10 प्रतिशत मेडिसिन्स नकली होती है। इन दवाओं से मरीजों को पैसों के अलावा स्वास्थ्य का भी नुकसान होता है। ज्यादातर एंटीबायोटिक दवाओं का नकली मार्किट काफी बड़ा है। कई बार इन नकली एंटीबायोटिक दवा के सेवन से मरीज की जान भी चली जाती है।

Loading...

शोधकर्ताओं के अनुसार इस विकसित किए गए स्पेशल पेपर की मदद से तेजी से हम किसी भी दवा के असली या नकली होने का पता लगा सकते है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.