Loading...

मोदी सरकार का नया प्लान, पेट्रोल-डीजल वाली कारें भी होंगी इलेक्ट्रॉनिक..

0 18

जल्द ही मोदी सरकार एक ऐसी स्किम लाने वाली है जिससे आपकी डीजल-पेट्रोल वाली कार भी इलेक्ट्रॉनिक कार बन जाएगी। मोदी सरकार इस पूरे फॉर्मूले पर काम कर रही है। रॉड ट्रांसपोर्ट मिनिस्ट्री से एक नोटिफिकेशन जारी हुआ है जिसमे मोटर व्हीकल एक्ट-1989 में बदलाव के बारे में बताया गया है। इस संशोधन के तहत डीजल ओर पेट्रोल कारों में इलेक्ट्रॉनिक और रेट्रो सिस्टम को मंजूरी दी गयी है। सरकार ने वाहनों से होने वाले प्रदूषण की वजह से यह फैसला लिया है। इससे कार का खर्चा भी 50 फीसदी कम हो जाएगा। 1989 के इस एक्ट के संसाधन को मंजूरी मिलनी अभी बाकी है।

कैसे होगा रेट्रो फिटमेंट

सूचना के मुताबिक रेट्रो फिटमेंट को तीन केटेगरी में बंटा गया है। पहली केटेगरी में पैसेंजर और स्माल गुड्स तथा 3500किलो तक का वाहनों को रखा गया है। इन सभी मे हाइब्रिड सिस्टम लगाया जाएगा। दूसरी केटेगरी में 3500 किलोग्राम से भरी वाहनों में हाइब्रिड सिस्टम लगाया जाएगा। तीसरी केटेगरी के वाहनों के इंजन को पूर्णतः इलेक्ट्रिक इंजन में बदल दिया जाएगा।

कौन करेगा रिप्लेस

Loading...

हाइब्रिड और इलेक्ट्रॉनिक इंजन का काम ऑथराइज्ड वर्कशॉप में ही होगा। इसके तहत इन वर्कशॉप को सरकार की तरफ से टेस्टिंग अजेंसीय सर्टिफिकेट लेना जरूरी होगा।

क्या है रेट्रो फिटमेंट

बड़ी बड़ी वहां निर्माता कम्पनियाँ बढ़ते प्रदूषण को रोकने और BS VI मानकों के लिए नए वाहनों में हाइब्रिड मोटर्स का इस्तेमाल करने लग गयी है। वहीं पेट्रोल डीजल इंजन वाली गाड़ियों में इलेक्ट्रॉनिक इंजन लगाए जा रहे है। इसके अलावा एक बैटरी भी साथ मे फिट की जाएगी। इस सिस्टम को ही रेट्रो फिटमेंट कहा जाता है। इसके बाद आपकी कार पेट्रोल डीजल की बजाय इलेक्ट्रिक पावर से चलेगी।

कैसे करती है ये काम

KPIT कम्पनी ने इलेक्ट्रॉनिक मोटर लगा एक रेवोलो मॉडल बनाया है। इसमें मोटर को एक फेंबेल्ट के साथ जोड़ा गया है जिसे लिथियम आयन बैटरी से पावर दिया जाता है। इसे चार्ज भी किया जा सकता है। यही इलेक्ट्रॉनिक मोटर पावर उत्पन्न करेगी। इससे खर्च भी काफी हद तक काम हो जाएगा।

60 फीसदी तक कम होती है खर्च

दूसरी कम्पनी भी रेवोलो की तरह कारों में हाइब्रिड रेट्रोफिटिंग किट दे रही है। इस सिस्टम पर कार चलाने से खर्च 60 फीसदी कम हो जाएगा। इलेक्ट्रिक व्हीकल इंडिया कम्पनी भी रेट्रोफिट किट उपलब्ध करवाती है। इस कीट में मोटर के अलावा कंट्रोलर, चार्जर और बैटरी मैनेजमेंट सिस्टम दिया जाता है।

महज 7 घंटे में चार्ज होती है किट

व्हीकल में हॉर्स पावर के अनुसार ही इलेक्ट्रिक किट लग्सए जाते है जो 800cc से 2500cc तक के होते है। अलग अलग रेंज के हिसाब से इन्हें फिट किया जाता है। इसके बाद बैटरी से जोड़कर महज 7 घण्टों में ही फूल चार्ज किया जा सकता है। पूरी चार्ज होने पर 100-120 किमी प्रतिघंटा तक कि रफ्तार मिल सकती है।

रेट्रोफिट सिस्टम की कीमत

हाइब्रिड रेट्रोफिटिंग और इलेक्ट्रिक इंजन की कीमत अलग अलग कारों के हिसाब से अलग अलग है। हैचबैक सेंगमेंट की कारों में यह सिस्टम मात्र 80 हजार में लगाया जा सकता है। डीजल और सिडान कारों के लिए इसकी कीमत 1 लाख रुपये तक है। एसयूवी मॉडल के लिए इनकी कीमत 1 लाख से भी ज्यादा है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.