Loading...

पंजाब केबिनेट का फैसला, धार्मिक ग्रन्थों के अपमान पर मिलेगी उम्रकैद….

0 25

हाल ही में पंजाब कैबिनेट ने एक बहुत ही अहम फैसला लेते हुए धार्मिक पुस्तकों के अनादर करने के जुर्म में सजा के प्रावधान मैं बदलाव किए हैं। भारतीय दंड संहिता और आपराधिक दंड संहिता में किए गए संशोधनों को पंजाब कैबिनेट ने मंगलवार को अपनी स्वीकृति दे दी है।

जानकारी के मुताबिक सरकार ने राज्य में सांप्रदायिक सौहार्द बनाए रखने के लिए इस अहम फैसले को स्वीकृति दी है। मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह की अध्यक्षता में हुई बैठक में इस अहम फैसले का निर्णय किया गया।
इस बैठक में मंत्रिमंडल ने आईपीसी की धारा 295 ए को शामिल करने के लिए भी अपनी स्वीकृति दी है। इसके तहत यदि कोई भी इंसान श्रीमद्भगवद्गीता, गुरु ग्रंथ साहिब, पवित्र कुरान और बाइबल को मानने वाले लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंचाने वाला काम करता है, तो उसे इस जुर्म में उम्र कैद की सजा दी जाएगी।
Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.