Loading...

क्रिकेट के इन रिकार्ड्स को तोड़ना तो दूर, कोई इनकी बराबरी भी नहीं कर सकता…

0 13

क्रिकेट के खेल में आए दिन रिकार्ड्स बनते-बिगड़ते रहते हैं। लेकिन कई रिकार्ड्स ऐसे बनते हैं, जिन्हें देख लगता है कि इसे तोड़ पाना मुश्किल होगा। लेकिन रिकॉर्ड तो बनते ही टूटने के लिए है।

आज हम आपको ऐसे 3 रिकॉर्ड के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्हें तोड़ पाना बहुत ही मुश्किल काम है।

सौरव गांगुली का रिकॉर्ड

Loading...

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने एक ऐसा रिकॉर्ड बनाया है जो बड़ा ही शानदार और दिलचस्प है। दादा के नाम से प्रसिद्ध गांगुली लगातार चार वनडे मैचों में मैन ऑफ द मैच बने थे। गांगुली दुनिया के एकमात्र ऐसे खिलाड़ी है जिन्होंने यह जबरदस्त कारनामा किया है। उन्होंने यह अद्भुत रिकॉर्ड 1997 में पाकिस्तान के खिलाफ वनडे सीरीज में बनाया था। जिसे अब तक 21 सालों में कोई नहीं तोड़ पाया है।

क्रिस गेल का रिकॉर्ड

दुनिया के सबसे धुआंधार बल्लेबाजों में शुमार वेस्टइंडीज के खिलाड़ी क्रिस गेल के नाम एक ऐसा अनोखा रिकॉर्ड है, जिसे तोड़ पाना बड़ा ही मुश्किल है। गेल जब जबरदस्त फॉर्म में चल रहे होते हैं तो हर गेंदबाज उनके सामने बेबस नजर आता है। गेल अपने आसमानी छक्कों के कारण क्रिकेट के अंदर एक अलग ही पहचान बना चुके हैं। गेल दुनिया के एकमात्र ऐसे खिलाड़ी है जिन्होंने अपने डेब्यू टेस्ट की पहली गेंद पर गगनचुंबी छक्का लगाया था।

महेंद्र सिंह धोनी का कप्तानी रिकॉर्ड

भारतीय टीम के सबसे सफल कप्तानों में से एक कप्तान महेंद्र सिंह धोनी है, जिन्होंने टीम इंडिया को उन ऊंचाइयों तक पहुंचाया था जहां तक पहुंचना मुश्किल नजर आ रहा था। मुश्किल घड़ियों में भी ठंडे दिमाग से कप्तानी करने वाले माही को लोग कैप्टन कूल कहा करते है। कैप्टन कूल की कप्तानी में इंडिया टीम ने 2007 के अंदर T-20 वर्ल्ड कप,2011 के अंदर वनडे वर्ल्ड कप और 2013 में चैंपियंस ट्रॉफी अपने नाम की थी। धोनी की कप्तानी के अंदर साल 2009 में भारतीय टीम टेस्ट मैचों के अंदर नंबर वन पोजीशन पर रही थी। माही ऐसा करने वाले इकलौते कप्तान हैं उनका यह रिकॉर्ड तोड़ पाना बड़ा मुश्किल होगा।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.