Loading...

अद्भुत: इस मंदिर की हर चीज है खास, दुनिया के अजूबों में है शामिल….

0 55

तमिलनाडु के मदुरै शहर में स्थित मीनाक्षी मंदिर बनावट और खूबसूरती के लिहाज से काफी प्रसिद्ध और दुनिया के अजूबों में गिना जाता है। स्वच्छता के मामले में भी यह मंदिर सबसे बेहतरीन है। शिव-पार्वती को समर्पित इस मंदिर का गर्भ गृह 3500 साल से भी ज्यादा पुराना माना जाता है।

फिलहाल अगर आपका मन भी किसी धार्मिक और रमणीय मंदिर की सैर करने का है तो तमिलनाडु के मीनाक्षी मंदिर जरूर जाएं। इस मंदिर की यात्रा आपको हमेशा याद रहेगी।

मंदिर का इतिहास

इस मंदिर का इतिहास भी अपने आप में खास है। बताया जाता है कि भगवान शिव सुंदरेश्वर के रूप में देवी पार्वती से शादी करने के लिए जिस स्थान पर आए थे, उसी जगह पर यह मीनाक्षी मंदिर बना हुआ है।

Loading...

मंदिर की बनावट

मीनाक्षी मंदिर 14 एकड़ में फैला हुआ है। इस मंदिर की ऊंचाई 160 फीट के करीब है। इसके अलावा सुरक्षा और सुंदरता की दृष्टि से मंदिर के चारों ओर ऊंची ऊंची दीवारें हैं। इस मंदिर परिसर के दो मुख्य द्वार हैं, जिन्हें सुंदरेश्वर और मीनाक्षी द्वार के नाम से जानते हैं। शिव-पार्वती के अलावा इस मंदिर में लक्ष्मी, गणेश, सरस्वती और रुक्मणी की भी पूजा की जाती है।

इस मंदिर परिसर में ‘पोर्थमराई कुलम’ नामक एक तालाब बना हुआ है। पोर्थमराई को स्थानीय भाषा में सोने के कमल वाला तालाब नाम से जानते हैं। इस तालाब के बीचो-बीच 165 फीट लंबा और 120 फीट चौड़ा सोने का कमल बना हुआ है। शिव भक्तों में आस्था है कि इस मंदिर में भगवान शिव निवास करते हैं। मंदिर परिसर के अंदर बने हुए खंबों पर भगवान शंकर की पौराणिक कथाओं का उल्लेख मिलता है और 8 खंभों पर लक्ष्मी जी की मूर्तियां उत्कीर्ण की गई है। मंदिर में प्रवेश करने के लिए चार मुख्य द्वार बनाए गए हैं। इसके अलावा छोटे-मोटे 14 अन्य द्वार भी है। मंदिर परिसर में हजार खंभो से बना हुआ एक बड़ा हॉल भी बना हुआ है। इस हॉल पर शेर और हाथी के चित्र बने हुए हैं। मंदिर की छत भी बहुत रोमांचक दिखाई देती है।

मंदिर का सबसे खास उत्सव

हर वर्ष अप्रैल महीने में यहां का सबसे प्रसिद्ध त्योहार तिरुकल्याणम धूमधाम से मनाया जाता है। 10 दिनों तक चलने वाले इस उत्सव में लाखों श्रद्धालु भगवान शिव का आशीर्वाद लेने पहुंचते हैं। इसके अलावा शिवरात्रि और नवरात्रि के समय भी या काफी भीड़ लगी रहती है।

मंदिर में दर्शन का समय

इस मंदिर का मुख्य द्वार भक्तों के दर्शनार्थ सुबह 5:00 बजे से 12:00 बजे तक और शाम को 4:00 बजे से रात 9:00 बजे तक खुला रहता है।

इन रास्तों से पहुंचे मीनाक्षी मंदिर

अगर आप की भी इच्छा मीनाक्षी मंदिर में दर्शन करने की है, तो यहां पहुंचने के लिए आप चेन्नई एयरपोर्ट उतर सकते हैं। यहां से मात्र 90 मिनट में मदुरई पहुंचा जा सकता है। इसके अलावा मदुरई एयरपोर्ट पर भी उतर कर टैक्सी की सहायता से मीनाक्षी मंदिर तक जा सकते हैं।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.