Loading...

नाना ने किया रिश्तों को शर्मसार, अपनी ही नातिन को बनाया हवस का शिकार, फिर उठाया खौफनाक कदम… 

0 27

आए दिन हम अखबारों और टीवी में देखते हैं कि मासूम बच्चियों को दुष्कर्म का शिकार बनाया जा रहा है। हाल ही में राजधानी दिल्ली के रोहिणी स्थित एक अनाथालय के बाहर मिली बच्ची ने एक ऐसी घटना के बारे में बताया है, जिसे सुनकर हर कोई दंग रह गया। जब बच्ची से पूछा गया कि वह यहां कैसे आई तो उसकी दास्तान को सुनकर सब लोग रो पड़े। बच्ची ने आंसू छलकाते हुए बड़ी मासूमियत के साथ अपने साथ हुई दरिंदगी का जिक्र किया तो लोग इस घटना के बारे में सुनकर फफक पड़े।

बच्ची की मां की हो चुकी है मौत
बच्ची अपने मामा-मामी और नाना के साथ रहती है क्योंकि बच्ची की मां इस दुनिया से कब की चली गयी। 7 साल की मासूम को मामा-मामी जब बोझ समझने लगे तो इसे नाना के पास छोड़ दिया गया। मां के गुजर जाने के बाद नाना से प्यार मिलने की आस लगाए इस बच्ची को नाना ने अपनी हवस का शिकार बनाया। नाना बच्ची के साथ रेप करता रहा। इस मासूम को तो यह भी नहीं पता था इसके साथ यह क्या हो रहा है।

बच्ची की दास्तान सुनकर रो पड़े सब लोग
Loading...
मासूम को अपनी हवस का शिकार बना रहे नाना को इस बात का डर भी लग रहा था कि जब बच्ची बड़ी हो जाएगी तो इस दरिंदे की सारी करतूत बाहर आ जाएगी। इसी डर को ध्यान में रखकर नाना ने बच्ची को अनाथालय के बाहर छोड़ दिया और उसे यह कह दिया कि अब उसका कोई नहीं है। अनाथालय वालों की नजर बच्ची पर पड़ी तो उस की दास्तान सुनकर उन्होंने पुलिस को सूचना दी जिससे पुलिस की भी आंखों में पानी आ गया। 14 अगस्त को कार्यवाही करते हुए पुलिस ने नाना को गिरफ्तार कर लिया है।
राजमिस्त्री का कार्य करता था नाना
60 वर्षीय आरोपी नाना मूल रूप से राजस्थान का निवासी है। पिछले कई सालों से आरोपी नांगलोई इलाके की राजधानी पार्क में अपने स्वयं के मकान में ही रहता है। आरोपी राजमिस्त्री का कार्य करता है। मासूम अपने माता-पिता के साथ रोहिणी इलाके में रहती थी, लेकिन पिता के टॉर्चर के कारण मां ने खुदकुशी कर ली थी। इसलिए पिता ने बच्ची को अपने ननिहाल में छोड़ दिया। बच्ची जब मामा मामी पर भी बोझ बन गई थी तो उन्होंने बच्ची को नाना के पास छोड़ दिया। बच्ची को अकेले पाकर नाना उसके साथ कई सालों से दुष्कर्म करता रहा लेकिन अभी नाना जेल की सलाखों के पीछे है।
Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.