Loading...

7 साल बाद ऐसे पुलिस की पकड़ में आया “लुटेरा दूल्हा”, इसकी करतूतें जानकर हैरान रह जाओगे

0 26

बीते 7 साल से 3 राज्यों की पुलिस फोर्स को उल्लू बनाने वाला लुटेरा दूल्हा तरुण शर्मा और उसकी बहन दुर्गान्शु शर्मा शुक्रवार को आखिरकार नोएडा पुलिस के हाथ लग गए। इन दोनों पर पुलिस ने 25-25 हजार का इनाम भी घोषित किया हुआ था। आपको बताते चलें इन दोनों पर नोएडा, मेरठ, भोपाल, चंडीगढ़ और इंदौर में शादी कर ठगी करने के मामले दर्ज है। तरुण ने एक साल में तीन लड़कियों से शादी की। 2017 में तरुण ने एक नर्स से शादी की और उसे 4 महीने बाद 40 लाख रुपए का चूना लगा कर फरार हो गया। फिर उसने 2018 में भोपाल की एक बैंक मैनेजर को अपने झांसे में फंसाया और जनवरी में उससे शादी की। ठीक पहली शादी की तरह इस बैंक मैनेजर को आठ-दस का चूना लगाकर तरुण फिर से फरार हो गया। बीते जुलाई महीने में तरुण ने वाराणसी की रहने वाली एक लड़की से इलाहाबाद में शादी की थी। तरुण सवा करोड़ रुपए खर्च करके ट्रेवल एजेंसी का बिजनेस शुरू करने वाला था। इसी बिजनेस के सिलसिले में तरुण अपनी बहन के साथ शुक्रवार सुबह नोएडा सेक्टर 71 में आया, जहां पर पुलिस ने तरुण और उसकी बहन को गिरफ्तार कर लिया।

10 रु. के स्टांप पर लिखता था, नहीं लूंगा दहेज

तरुण में इन सभी लड़कियों को मेट्रोमोनियल वेबसाइट पर यह कहकर अपने चक्कर में फसाया कि वह 10 रुपये के स्टांप पर यह लिख कर दे देगा कि उसे शादी में दहेज नहीं चाहिए। शादी में दहेज की बजाय महज एक रुपए में वह शादी कर लेगा।

ठगी, अप्राकृतिक दुष्कर्म और अपहरण का भी केस

Loading...

SSP अजय पाल के अनुसार तरुण के खिलाफ धोखाधड़ी के अलावा झूठी शादी का खेल रच कर दुष्कर्म करने का केस भी दर्ज है। इसके अलावा तरुण की बहन पर भी धोखाधड़ी का केस दर्ज किया हुआ है।

मेरठ में मुलायम सिंह का करीबी बता मकान मालिक से ठगे 25 लाख

इन दोनों भाई बहनों ने सन 2011 के फरवरी माह में मेरठ के रहने वाले अजय त्यागी के मकान को किराए पर लिया और वहां रहने लगे। तरुण खुद को एक न्यूज़ पोर्टल का मालिक बताता था और लोगों से कहता था कि वह सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव का करीबी रिश्तेदार है। आरोपी ने पुलिस वालों से दोस्ती करके अपने साथ कुछ फोटो भी खींचे थे। उन्हीं फोटो को मकान मालिक अजय त्यागी को दिखाकर अच्छी खासी पहचान बना ली थी। थोड़े दिन बाद अजय त्यागी की बेटी की शादी की तारीख पक्की हुई तो तरुण ने शादी का सामान खरीदने के लिए 15 लाख रुपए ले लिए। इसके बाद परिवार वालों के होश उस वक्त उड़ गए जब वह लोग सगाई में गए। लेकिन तब तक आरोपी और उसकी बहन कैश और गहने समेत लगभग 25 लाख रुपए लेकर वहां से चंपत हो गए थे।

भोपाल में बैंक मनेजर को बनाया ठगी का शिकार, पेपर में खबर पढ़कर भागे

नोएडा से भागकर दोनों भाई बहन भोपाल में रहने लगे। ठगी के पैसो से दोनों ने एमपी 24 नाम से न्यूज पोर्टल शुरू किया। फिर मॅट्रिमोनी वेबसाइट पर एक बैंक मैनेजर को खुद की 20 लाख रुपये सेलरी बताते हुए 2018 में शादी कर ली। इस बैंक मैनेजर से भी तरुण ने 10 लाख रुपये ठग लिए। 23 मई को जब इस ठगी की खबर जब दैनिक भास्कर में छपी तो दोनों भाई बहन तब तक लखनऊ पहुंच चुके थे। लखनऊ के बाद दोनों नागपुर, केरल और मुम्बई में घूमते घूमते वाराणसी में आ गए।

चंडीगढ़ में खोला ऑनलाइन शॉपिंग मॉल और न्यूज पोर्टल

दिसम्बर 2011 में दोनों भाई बहन ने मिलकर एक आई 10 कार भी चोरी कर ली जिससे दोनों पंजाब पहुंच गए। चंडीगढ़ में तरुण ने ऑनलाइन शॉपिंग सेंटर और एक न्यूज पोर्टल शुरू किया। वही तरुण एक शादीशुदा महिला को झांसे में लेकर उसके साथ लिव इन रिलेशनशिप में रहने लगा। तरुण ने पेपर में विज्ञापन देकर लोगों से करीबन 70-80 लाख रुपये और ठग लिए। फिर नवम्बर 2016 में तरुण दिल्ली पहुंचा।

नोएडा में फिल्म ‘डॉली की डोली’की तर्ज पर की ठगी

डोली की डोली फ़िल्म देखकर लुटेरे बने इस तरुण ने एक नर्स से 40 लाख रुपये ठगे। फिर दोनों भाई बहन नोएडा के सेक्टर 71 में रहने लगे। दुर्गान्शु ने तरुण को मेट्रोमोनियल वेबसाइट्स के जरिए शादी करके ठगी करने का आईडिया दिया। यहां रहने वाली एक नर्स से तरुण ने दिसम्बर 2016 में शादी की और प्लाट दिलाने के नाम पर 40 लाख रुपये लेकर भोपाल भाग गया।

वाराणसी की लड़की को फंसा इलाहाबाद ले आया

के शहरों के चक्कर लगाने के बाद तरुण और उसकी बहन एक लड़की के घर पहुंचे जिसने तरुण के भोपाल के आफिस में काम भी किया था। तरुण ने लड़की से शादी कर ली और जॉइंट एकाउंट खुलवाकर अपने ट्रेवल बिजनेस के लिए 1.10 करोड़ का चेक देकर 15 स्कोर्पियो का आर्डर दे दिया। लेकिन तरुण का चेक बाउंस हो गया था। इसके बाद से ही तरुण और उसकी बहन नोएडा के सेक्टर 71 में रहने लगे। जहां दोनों पुलिस के हत्थे लग गए।

2008 में जेल जा चुका है तरुण

तरुण गाजियाबाद से है और इसकी तथाकथित बहन दुर्गान्शु देहरादून की रहने वाली है। तरुण 2008 में जालसाजी के आरोप में जेल भी जा चुका है। जेल से निकलने के बाद तरुण की दुर्गाशु से मुलाकात हुई और दोनों नए नए तरीके से ठगी करने लगे।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.