Loading...

आपके मोबाइल पर मौजूद होते हैं ये 12 तरह के बैक्टीरिया, जो आपको कर सकते हैं बीमार

0 28

सुबह उठते ही अगर कोई सबसे पहला काम करता है तो वो है मोबाइल चेक करना। हर कोई इसके पीछे पड़ा हुआ है। रात को सोने से पहले भी एक बार फ़ोन देखे बिना नींद नहीं आती। कहना कहते समय भी एक हाथ मे फ़ोन रहता है।

लेकिन अगर आपको कहा जाए कि आपका फोन तो टॉयलेट सीट से भी ज्यादा गंदा और खतरनाक है तो क्या आप इसका ज्यादा प्रयोग करना बंद कर देंगे? बेशक आप खाना छोड़ सकते है लेकिन इस मोबाइल को एक पल के लिए भी दूर नहीं करना चाहते।

ताजा रिपोर्ट्स के मुताबिक मोबाइल फ़ोन में टॉयलेट से तीन गुना खतरनाक कीटाणु होते है। इंग्लैंड की 2Go कम्पनी की रिपोर्ट के अनुसार लगभग एक तिहाई मोबाइल उपभोक्ता अपने मोबाइल को तरल पदार्थ से साफ नहीं करते। रिपोर्ट के मुताबिक यह मोबाइल टॉयलेट से तीन गुना ज्यादा गंदा होता है। इस रिपोर्ट के अनुसार 20 में से 1 उपभोक्ता 6 माह में सिर्फ एक बार अपने फ़ोन को साफ करता है।

Loading...

टॉयलेट सीट से तीन गुना ज्यादा बैक्टीरिया

मोबाइल पर टॉयलेट सीट से भी ज्यादा खतरनाक बैक्टिरिया होते है। टॉयलेट में 3 तरह के कीटाणु होते है जबकि मोबाइल पर 12 तरह के कीटाणु होते है। मोबाइल स्क्रीन पर ई-कोलाइ और फिकल जैसे घातक कित्सनु मौजूद होते है। हर उपभोक्ता एक दिन में औसतन 47 बार अपना मोबाइल चेक करता है। इस दौरान मोबाइल पर मौजूद कीटाणु उसके हाथों पर आ जाते है।

मोबाइल पर होते हैं 12 तरह के बैक्टीरिया

मोबाइल पर पाए जाने वाले बैक्टीरिया पर एक अध्ययन भी हो चुका है। केलिफोर्निया यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर विलियम और उनकी टीम ने मोबाइल पर पाए जाने वाले ऐसे ही कुछ खतरनाक कीटाणुओं के सेम्पल इकट्ठा किए है। इस सटीडी के अनुसार हर मोबाइल पर औसतन 10 से 12 तरह के बैक्टीरिया होते है। इसके विपरीत टौयलेट में सिर्फ 3 तरह के कीटाणु ही होते है।

पसीने और मैल से पनपते हैं बैक्टीरिया

इंसान अपने को हर जगह उपयोग करता है। यहां तक कि टॉयलेट में भी कई लोग मोबाइल देखते रहते हैं। ऐसे में जब आपके मोबाइल पर शरीर का पसीना लगता है तो इसमे कई तरह के जीवाणु पनप जाते है। जो इंसानों के लिए घातक होते हैं।

ऐसे करें अपना बचाव

अपने मोबाइल को हमेशा साफ रखें। टॉयलेट जाते समय मोबाइल का उपयोग ना करें। समय समय और अपने मोबाइल को हल्के गीले कपड़े से साफ करते रहें। ऐसे में इन बैक्टिरिया का पनपना काफी हद तक धीरे-धीरे कम होता जाएगा।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.