Loading...

PM मोदी के ‘गगनयान’ के ऐलान को ISRO ने बताया अच्छा कदम

0 14

भारत दुनिया का चौथा देश हो सकता है अगर 2022 में उसका एस्ट्रोनॉट खुद के यान से अंतरिक्ष में पहुँचता है तो। इससे पहले सेवियत यूनियन, अमेरिका और चीन इस काम को करने में सफल हुए हैं।

मोदी ने लाल किले से स्वतंत्रता दिवस के मौके पर एक बहुत ही जबरदस्त ऐलान किया है। मोदी ने कहा है कि 2022 से पहले भारत का कोई बेटा या बेटी अंतरिक्ष में स्वदेशी गगन यान से पहुंचेगा। इस ऐलान को सुनकर इसरो भी हैरान हो गया था, लेकिन उन्होंने इसे अच्छा कदम बता कर स्वागत किया है।

मीडिया से बात करते हुए इसरो के चेयरमैन शिवन ने बताया था कि प्रधानमंत्री ने मानव सहित गगन यान को स्पेस प्रोग्राम में ले जाने का ऐलान किया है। इस बात से इसरो को खुशी है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने देश को यह एक बहुत ही बड़ा तोहफा दिया है। साथ ही साथ शिवन ने कहा था कि इस प्रोजेक्ट के कारण कई ऑर्गनाइजेशन, स्कूल और अन्य लोग इस मिसन से जुड़ेंगे। वहीं दूसरी ओर युवा भी इस प्रोजेक्ट को देखकर प्रोत्साहित होंगे।

शिवन ने बताया कि इस मिशन में कम-से-कम करीब 10000 करोड रुपए खर्च होंगे। जो कि R&D फंड से मिलेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि इस मिशन को कैसे चलाएंगे,कौन चलाएगा, किस प्रकार काम करना होगा इसके लिए हम 2 महीने में फाइल बनाकर रिपोर्ट को सबमिट कर देंगे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री का यह ऐलान इसरो के लिए बड़ी खुशी की बात है।

Loading...

चेयरमैन ने कहा है की हर कोई मुझसे यह पूछता है कि क्या यह प्रोजेक्ट पूरा हो जाएगा। तो उन सबको मैं एक ही बात कहना चाहूंगा कि इस महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट के लिए हमें नई तकनीक पर काम करना होगा तब जाकर इसे हम 2022 तक पूरा कर सकेंगे। चेयरमैन ने कहा है कि यह पल हर भारतीय को गर्व महसूस करने का पल है।

उन्होंने बताया कि ऐसे मिशन जिसमें मानव सहित प्रोजेक्ट पर काम करना पड़ता है, उसके लिए पहले मानव रहित प्रोजेक्ट पर काम किया जाता है। इसके लिए हम छोटा ही बजट रखेंगे इस मिशन के लिए हमें बस अच्छे इंफ्रास्ट्रक्चर और सुविधाओं की आवश्यकता होगी। अभी तक यह बात कंफर्म नहीं हो पाई है कि इस मिशन में कौन जाएगा पर लिंग के हिसाब से किसी के साथ कोई भेदभाव नहीं किया जाएगा।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.