Loading...

शुरू करें फ्रूट बार बिज़नेस, सरकार देगी 90 फीसदी  लोन, 5 लाख तक हो सकती है सालाना कमाई

0 17

इंडिया में स्नैक्स का बिजनेस तगड़ी रफ्तार पर है। इसी की तर्ज पर एक और बिजनेस होता है, जिसे फ्रूट बार के नाम से जानते है। इस बिजनेस को शुरू करने के लिए प्रधानमंत्री एम्प्लॉयमेंट जनरेशन प्रोग्राम(PMEGP) के तहत आपको आर्थिक सहायता भी लोन के रूप में मिल जाएगी।

इसी PMEGP प्रोग्राम के तहत KVIC द्वारा बनी एक प्रोजेक्ट फ़ाइल के अनुसार यह बिजनेस 12.82 लाख रुपये में।शुरू किया जा सकता है। इस योजना के तहत इन पैसों में से 11.55 लाख का लोन PMEGP योजना से मिल जाएगा। इस प्रकट अगर आपके पास 1.28 लाख रुपये है तो आप यह बिजनेस आसानी से शुरू कर सकते हैं।

ऐसी है KVIC की पूरी प्रोजेक्ट रिपोर्ट

सबसे पहले जानिए फ्रूट बार का मतलब
छोटा हो या बड़ा, सबको फल फ्रूट अच्छे लगते है। सब फल फ्रूट अलग अलग सीजन में होते है। इसके विपरीत देश मे फलों पे प्रिजरविंग के कैंसर तरीके मौजूद है। फ्रूट बार बिजनेस के तहत केला, आम, अमरूद और सेब जैसे फलों का उपयोग कर सकते है। एक आम इंसान भी थोड़े से बजट के साथ फ्रूट मेकिंग यूनिट लगाकर खुद का बिजनेस शुरू कर सकता है।

Loading...

इस तरह बनाएं प्रोजेक्ट रिपोर्ट

सबसे पहले आपको इस बिजनेस के लिए प्रोजेक्ट फ़ाइल बनानी पड़ेगी। क्विक द्वारा बनी रिपोर्ट के मुताबिक एक यूनिट में लगभग 60 टन फ्रूट बार बनाने के लिए लगभग 100 वर्ग मीटर जगह जरूरी होती है। इस जगह में वर्क शेड तैयार होगा। इसके अलावा कुछ इक्विपमेंट भी चाहिए होंगे जिनकी कीमत लगभग 4.32 लाख होगी। यदि आप वर्क शेड किराए पर लेने की सोच रहें है तो इसके लिए 2.50 रुपया किराया मान कर चलें। इस प्रकार आपको कुल 6.82 लाख रुपये की जरूरत पड़ेगी।

महत्वपूर्ण इक्विपमेंट जो होंगे बेहद जरूरी
KVIC की रिपोर्ट के अनुसार फ्रूट बार बिजनेस शुरू करने के लिए फ्रूट वाशिंग टब, स्टीम केतली, बेबी बॉयलर, पल्प एक्सट्रेक्टर, फ्रूट मिल, वेट मशीन ट्रे ड्रायर, युटेंसिल और टेस्टिंग इक्विपमेंट लेने जरूरी होंगे।

इतनी वर्किंग कैपिटल में आसानी से शुरू हो सकता है बिजनेस….

जब आप प्रोजेक्ट फ़ाइल बनाते है तो उसमें वर्किंग केपिटल के बारे में भी बताना जरूरी होगा। इसके तहत आपको रॉ मेटीरियल के लिए 17.60 लाख, लेबर पैकेजिंग 2 लाख रुपये, वेजेज और सैलरी 11 लाख रुपये, ओवरहेड 2 लाख, एडमिनिस्ट्रेटिव खर्च 1.5 लाख रुपये, डेप्रिशिएसन 55 हजार, इंसयोरेन्स और ब्याज 1.73 लाख के अलावा अन्य खर्च के रूप में 1.25 लाख रुपये अपनी रिपोर्ट में प्रस्तुत करने होंगे।

इस प्रोजेक्ट फ़ाइल के अनुसार एक साल के वर्किंग कैपिटल के रूप में 37 लाख रुपये का खर्चा होना तय है। इस प्रोजेक्ट फ़ाइल के अनुसार 2 माह के लिए लगभग 6 लाख 22 हजार रुपये का खर्चा दिखाना जरूरी होगा। इस प्रकार इस पूरे फ्रूट बार बिजनेस की प्रोजेक्ट कॉस्ट 12 लाख 82 हजार रुपये तक होगी।

सालाना होगी इतनी बचत

इस प्रोजेक्ट रिपोर्ट ।के आपको अपनी प्रोजेक्टेड सेल्स भी बतानी होगी। KVIC द्वारा बनाई गई रिपोर्ट के आधार पर हर साल लगभग 43 लाख रुपये की प्रोजेक्टेड सेल होगी जिसमें से 37 लाख 36 हजार रुपये इस प्रोडक्शन पर खर्च होंगे। इस प्रकार आप हर साल लगभग 5.63 रुपये की कमाई आसानी से कर सकते हैं।

PMEGP के तहत लोन लेकर फ्रूट बार बिजनेस करने के लिए यहां करें अप्लाई

अगर आप फ्रूट बार का बिजनेस PMEGP योजना के तहत लोन से शुरू करना चाहते है, तो PMEGP की वेबसाइट https://www.kviconline.gov.in/pmegpeportal/jsp/pmegponline.jsp के माध्यम से अप्लाई करें।

साथ ही KVIC की पूरी प्रोजेक्ट रिपोर्ट डाउनलोड करने के लिए https://www.kviconline.gov.in/pmegp/pmegpweb/docs/commonprojectprofile/PROJECT%20PROFILE विजिट करें।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.