Loading...

लड़कियां अकेले जाती थी स्कूल तो मनचले करते थे छेड़छाड़, परेशान लड़कियों ने निकाला ये आईडिया

0 44

राजस्थान के जालौर के रानीवाड़ा का एक ऐसा मामला सामने आया है जहां शारदे गर्ल्स हॉस्टल में पढ़ने वाली छात्राएं मनचलों की छेड़छाड़ से इतनी ज्यादा परेशान हो गई कि अब उन्हें हॉस्टल से 2 किलोमीटर दूर स्कूल तक एक ही कतार में जाना पड़ता है. दरअसल एक मनचले की हरकत से परेशान होकर सोमवार को ही इन छात्राओं ने उसकी जमकर ठुकाई कर दी थी.

दरअसल इस हॉस्टल की छात्राओं के लिए स्कूल तक पहुंचने के लिए किसी भी प्रकार की कोई व्यवस्था नहीं है. इन लड़कियों को पैदल ही स्कूल तक जाना पड़ता है.

वही जिले के देवपुरा से आदर्श राजकीय माध्यमिक विद्यालय एवं आदर्श राजकीय विद्यालय में अलग-अलग कक्षाओं में पढ़ने वाली इन सभी छात्राओं को रोजाना हॉस्टल से 2 किलोमीटर दूर पैदल चलकर ही स्कूल आना जाना पड़ता है. इस दौरान छात्राओं को रास्ते में पड़ने वाले स्टेट हाईवे 31 व रेलवे क्रॉसिंग को भी पार करना होता है. यहां से सैकड़ों बाहन निकलते हैं साथ ही वहां वाहियात हरकतें करने वाले मनचले भी खड़े रहते हैं. स्कूली छात्राओं को हर दिन ऐसी ही मुश्किलों का सामना करना पड़ता है. इसी वजह से यह छात्राएं कतार बनाकर स्कूल से आती-जाती हैं.

आपको बता दें कि देवपुरा स्थित आवासीय बालिका छात्रावास में 100 बालिकाएं रहती हैं जो कि कक्षा 9 से 12 वीं में पढ़ती हैं.

Loading...

मनचले ने किया ज्यादा परेशान तो हिम्मत करके करदी उसकी धुनाई

स्कूल की छुट्टी हो जाने के बाद स्कूल की छात्राओं के साथ एक मनचला रोजाना छेड़छाड़ किया करता था. उन छात्राओं ने मनचले की हरकत से परेशान होकर सोमवार को स्कूल से लौटते समय उस मनचले को पकड़ लिया और उसकी जमकर ठुकाई कर दी. अचानक ही लड़कियों को उस लड़के की ठुकाई करते हुए देख, वहां मौजूद लोगों ने भी जमकर मनचलों के ऊपर अपने हाथ साफ किए.

वहीं इस पूरे मामले को लेकर शारदे विद्यालय प्रभारी किशन लाल ने कहा कि हमें कल ही इस पूरी घटना के बारे में जानकारी मिली तो हम तुरंत ही मौके पर पहुंच गए थे. हालांकि अब हमारा एक गार्ड छात्राओं के साथ जरूर जाता है.

वही रानीवाड़ा थाना प्रभारी भूपेंद्र सिंह शेखावत ने बताया कि हमें इस मामले की कोई जानकारी नहीं मिल पाई है. अगर वहां पर ऐसी कोई भी हरकत होती है तो उस जगह पर सिविल ड्रेस में पुलिस जवानों को तैनात कर दिया जाएगा. पुलिस हमेशा से ही बालिकाओं की सुरक्षा को लेकर काफी गंभीर रही है.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.