Loading...

भारत में है ऐसी भी जगह जहां स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त को नहीं बल्कि इस दिन मनाया जाता है

0 58

कोई अगर आपसे पूछे कि भारत का स्वतंत्रता दिवस कब मनाया जाता है तो इस बात का जवाब बच्चा-बच्चा भी दे देगा कि 15 अगस्त को मनाया जाता है. जब हम अपने देश की आजादी का जश्न मनाते हैं तो यह जाहिर सी बात है कि आजादी के पर्व के रूप में तिरंगा भी 15 अगस्त को ही फहराया जाता है, लेकिन इस सबके बीच क्या आप इस बात को जानते हैं कि देश के कुछ ऐसे भी शहर है जहां पर आजादी का यह पर्व 15 अगस्त को नहीं बल्कि 18 अगस्त को मनाया जाता है.

जी हां बिलकुल सही सुना आपने चौंकिए मत, कुछ ऐसे शहर हैं जहां 15 अगस्त नहीं बल्कि 18 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस समारोह जशन और झंडा फहराने का कार्यक्रम होता है.

दरअसल आपकी जानकारी के लिए बता दें कि भारत में पश्चिम बंगाल के नदिया जिले में स्थित रामघाट और कृष्णानगर भारत की दो ऐसी जगह हैं, जहां पर स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त को नहीं बल्कि 18 अगस्त को मनाया जाता है. अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर यहां पर ऐसा क्यों होता है तो आपको बता दें कि रामघाट और कृष्णानगर में पूरे भारत से अलग अपने स्वतंत्रता दिवस मनाने के पीछे एक बड़ी वजह और प्रमुख कारण भी है.

Loading...

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि जब हमारे देश भारत को आजादी मिली तो 15 अगस्त से 1 दिन पहले ही पाकिस्तान को आजाद मुल्क घोषित कर दिया गया था, और इन दोनों शहरों को भारत-पाकिस्तान के बंटवारे के वक्त पाकिस्तान में शामिल कर दिया गया था.

लेकिन इस बंटवारे से विवाद काफी ज्यादा बढ़ गया, क्योंकि यह दोनों ही इलाके हिंदू बहुल क्षेत्र हैं. इन क्षेत्रों में रहने वाले लोगों ने इस बात को लेकर काफी आपत्ति जताई और दोनों ही शहरों को वापस भारत में शामिल करने की मांग भी की.

काफी विरोध प्रदर्शन के बाद इन दोनों ही शहरों को भारत में शामिल कर लिया गया. जिसके परिणाम स्वरुप इन दोनों ही शहरों को आजादी 18 अगस्त को मिल पाई.

वही आपकी जानकारी के लिए यह भी आपको बता दें कि साल 1991 तक इन दोनों ही जगह पर आजादी के समारोह के दौरान राष्ट्रीय ध्वज नहीं फहराया जाता था. दरअसल ऐसा इसलिए क्योंकि संविधान के अनुसार देश में 15 अगस्त 23 व 26 जनवरी के अलावा झंडा फहराने की अनुमति नहीं है. आखिरकार एक लंबे संघर्ष के बाद इन्हें साल 1991 में अनुमति प्राप्त हो गई.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.