Loading...

कभी किया करता था रेस्त्रां में नौकरी और आज चाय बेचकर बन गया 18 करोड़ का मालिक

0 25

अगर आपसे कहा जाए कि कोई भारतीय विदेश में चाय बेचकर करोड़पति बन गया तो शायद आपको विश्वास नहीं होगा और ना ही आपने ऐसा कुछ पहले सुना होगा. लेकिन आपकी जानकारी के लिए बता दें कि केरल के रहने वाले 39 वर्षीय रुपेश थॉमस लंदन में चाय बेचकर करोड़पति बन गए. दरअसल रुपेश ने लंदन में ‛टुक टुक चाय’ नाम से अपने बिजनेस की शुरुआत की और उनके बिजनेस कि आज मार्किट वैल्यू 18 करोड रुपए है. रुपेश रेडी ब्रूड चाय बेचते हैं और मौजूदा समय में रुपेश की चाय की सप्लाई लंदन के सबसे लग्जरी डिपार्टमेंटल स्टोर हार्वे निकोल्स में होती है.

रूपेश का बचपन बेहद गरीबी में गुजरा, उनके परिवार में अक्सर ही पैसे की तंगी रहती थी. घर में पैसे की तंगी होने के बावजूद भी रुपेश ने अपनी पढ़ाई को बिल्कुल नहीं छोड़ा और उन्होंने मद्रास यूनिवर्सिटी से अपनी इंजीनियर की पढ़ाई को पूरा किया. रूपेश का बचपन से ही सपना था कि वह विदेश में नौकरी करें, अपने इसी सपने को पूरा करने के लिए साल 2002 में रुपेश 795 डॉलर यानी कि करीब 55 हजार रुपए लेकर लंदन चले गए.

मैकडोनाल्ड में की थी नौकरी

Loading...

लंदन पहुंच जाने के बाद रुपेश को वहां मैकडॉनल्ड्स में नौकरी मिल गई. रुपेश लंदन में काम करने को लेकर काफी उत्साहित था और उसे यह नौकरी भी काफी अच्छी लगी. यहां पर रुपेश को 5.30 डॉलर प्रति घंटे के हिसाब से मिलते थे. एक हफ्ते के अंदर ही रुपेश ने वहां पर एक दूसरी पार्ट टाइम नौकरी ढूंढ ली, दूसरी नौकरी डोर टू डोर सेल्समैन की थी.

कैसे आया आईडिया

रुपेश दिसंबर 2014 में अपनी पत्नी अलेक्जेंड्रा के साथ वापस अपने दोस्त लौटकर आ गए. रुपेश को अपने गांव से ही चाय बेचने का आईडिया मिल गया. दरअसल रुपेश की पत्नी को भी उसके गांव में बनी दूध वाली चाय काफी अच्छी लगी और यहीं से रुपेश को ‛टुक टुक चाय’ के बिजनेस का आईडिया मिल गया.

इसके बाद रुपेश ने अपने बिजनेस की शुरुआत के लिए 2 लाख डॉलर का निवेश किया. रुपेश ने अपनी पूरी जमा पूंजी बिजनेस शुरू करने में लगा दी. वहीं रुपेश ने बताया कि मैकडॉनल्ड्स में बहुत मेहनत का काम होता था, लेकिन मैं हमेशा मुस्कुराता रहता था. बिजनेसमैन को देखता और यह महसूस करता था कि मैं क्या करना चाहता हूं.

अपने बिजनेस को लेकर रुपेश ने बताया कि मैंने लंदन में चाय के बिजनेस को लेकर एक दावं चला था जिसमें मुझे सफलता मिल गई. वही रूपेश का तो कहना यह है कि अमीर बनने के पीछे कोई भी मैजिक फार्मूला नहीं होता है. मैंने यह सफलता अपनी मेहनत और लगन के दम पर पाई है क्योंकि मेरे अंदर सफल बनने की भूख है और मैंने इसे हासिल करने में कोई भी कसर नहीं छोड़ी.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.