Loading...

जिस खिलाड़ी की कप्तानी में कभी खेले थे रैना और धवन, आज वही खा रहा है दर-दर की ठोकरें

0 20

आप सभी ने बल्लेबाज अंबाती रायडू का तो नाम जरूर सुना होगा. अगर मौजूदा समय में उन्हें सबसे बदनसीब खिलाड़ी ही कहा जाए तो इसमें कोई भी अचम्भा नहीं है. बेहतरीन प्रदर्शन करने के बाद भी यह खिलाड़ी भारतीय टीम में अपनी जगह नहीं बना पा रहा है. अंबाती रायडू ने इसी साल हुए IPL सीजन के दौरान बेहतरीन बल्लेबाजी करके दिखाई. अंबाती रायडू को उनकी शानदार बल्लेबाजी का इनाम देते हुए उन्हें इंग्लैंड दौरे के लिए भारतीय टीम में शामिल कर लिया गया था, लेकिन भारतीय टीम में सिलेक्शन हो जाने के कुछ दिनों बाद यो यो टेस्ट में फैल हो जाने के बाद उन्हें टीम से बाहर का रास्ता दिखा दिया. अंबाती रायडू यो यो टेस्ट से इतनी ज्यादा नाराज हो चुके हैं कि उन्होंने इंडिया ए, बी और दिलीप ट्रॉफी के लिए होने वाले यो यो टेस्ट में भी हिस्सा नहीं लिया. और देखा जाए तो पिछले कुछ समय से यो यो टेस्ट को लेकर क्रिकेट के कई पूर्व दिग्गजों के बीच काफी बहस भी चल रही है. लेकिन वहीं दूसरी तरफ भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री यो यो टेस्ट को लेकर अभी अड़े हुए हैं.

बरहाल जैसा भी हो लेकिन अंबाती रायडू का प्रदर्शन उनकी खूब पैरवी करने में लगा हुआ है. आपको बता दें कि अंबाती रायडू साल 2018 IPL में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाजों की लिस्ट में चौथे नंबर पर थे. IPL 2018 में अंबाती रायडू ने 45 की औसत से रन बनाने के साथ-साथ एक शानदार शतक जड़ा था. वहीं दूसरी तरफ यो यो टेस्ट में फैल हो जाने के बाद भी अंबाती रायडू ने भारतीय टीम में अपनी जगह बनाने की उम्मीदों को नहीं छोड़ा है. पिछले दिनों अंबाती रायडू ने फर्स्टपोस्ट अपना इंटरव्यू दिया. उस दौरान अंबाती रायडू ने कहा कि यह तो जाहिर है कि मैंने भारत के लिए खेलने को लेकर अपनी उम्मीदों को अभी नहीं खोया है. भारत के लिए खेलने का मेरा सपना अभी भी बरकरार है और इसके लिए मैं अपने खेल पर और भी ज्यादा मेहनत करूंगा. मैं आने वाले समय में यो यो टेस्ट में जरूर हिस्सा लूंगा और उसे पास करके दिखाऊंगा.

आपको बता दें कि अंबाती रायडू ने यह सब बातें इंडिया ए के लिए होने वाले यो यो टेस्ट से पहले कही थी. लेकिन ना जाने उसके बाद अंबाती रायडू को क्या हुआ कि उन्होंने यो यो टेस्ट में हिस्सा ही नहीं लिया. इससे यह तो पता चल जाता है कि अंबाती रायडू के दिमाग में काफी उथल-पुथल मची हुई है और शायद यह भी हो सकता है कि वह अपने आपको और भी बेहतर तरीके से तैयार कर रहे हों और सही समय आने पर यो यो टेस्ट में उतरने का मन बना लें.

Loading...

आपको बता दें कि साल 2004 में बांग्लादेश में खेले गए अंडर-19 वर्ल्ड कप में अंबाती रायडू ने ही भारतीय टीम की कप्तानी की थी और इस टूर्नामेंट में अंबाती रायडू की कप्तानी में शिखर धवन, सुरेश रैना और दिनेश कार्तिक भी खेले थे. समय के साथ-साथ सुरेश रैना, शिखर धवन और दिनेश कार्तिक का करियर तो खूब चमका. लेकिन अंबाती रायडू को उनके टैलेंट के अनुसार जगह नहीं मिली. अंबाती रायडू ने साल 2013 में वनडे डेब्यू किया था. अभी तक अंबाती रायडू ने 34 मैचों में 1055 रन बनाए हैं और इस दौरान अंबाती रायडू का औसत 50.23 का रहा. अंबाती रायडू ने अपना आखिरी वनडे मैच साल 2016 में जिंबाब्वे के खिलाफ खेला था और अपने आखिरी वनडे मैच में अंबाती रायडू ने 41 रन की बेहतरीन पारी खेली थी.

अब हम अंबाती रायडू के लिए यही उम्मीद कर सकते हैं कि 32 साल का ये खिलाड़ी आने वाले समय में यो यो टेस्ट को जरूर पास कर ले और भारतीय टीम में अपनी जगह फिर बनाए. यह तो जाहिर सी बात है कि भारतीय टीम को अंबाती रायडू जैसे बेहतरीन खिलाड़ियों की जरूरत है. अंबाती रायडू के अंदर वह काबिलियत है जो कि भारतीय टीम की चार नंबर पर बल्लेबाजी करने की समस्या को खत्म कर सकती है.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.