Loading...

PM मोदी को लेकर कंगना रनौत ने कहा – देश को आगे बढ़ाने के लिए उन्हें 5 साल और मिलने चाहिए

0 29

बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की खूब जमकर तारीफ की है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में बात करते हुए कंगना रनौत ने कहा कि नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बनने के सबसे योग्य उम्मीदवार हैं. कंगना रनौत ने परिवादवाद को लेकर भी बात की और कहा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश के सबसे बड़े पद पर है और इस पद पर वो अपने परिवार की वजह से नहीं पहुंच पाए हैं. उन्होंने इस पद तक पहुंचने के लिए कड़ी मेहनत की है. इसके साथ ही कंगना रनौत ने यह भी कहा कि देश को गड्ढे से बाहर निकालने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को देश एक और मौका दें, क्योंकि देश को आगे बढ़ाने के लिए 5 साल पर्याप्त नहीं हैं.

वही आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बचपन पर बनी शार्ट फिल्म ‛चलो जीते है’ का शनिवार में प्रीमियर था. इस शॉर्ट फिल्म का निर्देशन मंगेश हदावले ने किया है और यह फिल्म 29 जुलाई को रिलीज हो रही है. इस शॉर्ट फिल्म में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बचपन के संघर्ष को दिखाया गया है. इस फिल्म की स्क्रीनिंग के दौरान एक्ट्रेस कंगना रनौत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कामों की जमकर तारीफ की. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि यह फिल्म प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संघर्ष को दिखाती है.

Loading...

वही अगर एक्ट्रेस कंगना रनौत के फिल्मी करियर की बात की जाए तो कंगना राणावत की फिल्म मणिकर्णिका उनकी बड़ी फिल्म है. इस फिल्म की कहानी रानी लक्ष्मीबाई और ब्रिटिश के बीच हुई लड़ाई पर बेस्ड है. फिल्म मणिकर्णिका में अपने किरदार को एकदम दमदार दिखाने के लिए कंगना रनौत ने काफी मेहनत की है. वही आपको बता दें कि इस फिल्म में फिल्माए गए अधिकतर एक्शन सीन को कंगना रनौत अपने आप ही किया है. कंगना रनौत के द्वारा फिल्म मणिकर्णिका में की गई मेहनत 2019 की शुरुआत में नजर आ जाएगी. इस फ़िल्म का ट्रेलर 15 अगस्त को रिलीज होगा. हाल ही में एक्ट्रेस कंगना राणावत कोयंबटूर से करीब 30 किलोमीटर दूर स्थित ध्यानलिंग आदिशक्ति आश्रम भी गई वहां उन्होंने भोलेनाथ की पूजा की.

वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई का जन्म 1828 में बनारस में एक मराठी ब्राह्मण परिवार में हुआ था. रानी लक्ष्मी बाई के बचपन की बात की जाए तो उनका बचपन तुलसी घाट के बगल अस्सी और रीवा घाट पर ही बीता. रानी लक्ष्मीबाई ने इसी घाट की सीढ़ियों पर घुड़सवारी करना और तलवारबाजी करना सीखा था. उसके बाद उनके जीवन में कई उतार-चढ़ाव आए, अपने बच्चों को खोया, फिर पति को खोया और फिर राजपाट को खो दिया, लेकिन रानी लक्ष्मीबाई ने नहीं खोया तो अपना आत्मबल.

इस फिल्म के जरिए उनके जीवन की घटनाओं को करीब से छूने की कोशिश की होगी. बॉलीवुड फिल्म मणिकर्णिका के लेखक विजेंद्र प्रसाद हैं. आपको बता दें कि विजेंद्र प्रसाद ने ही बॉलीवुड फिल्म बजरंगी भाईजान और बाहुबली जैसी फिल्मों की कहानियों को भी लिखा है. दरअसल उन्होंने एक इंटरव्यू के दौरान यह कहा था कि इस फ़िल्म में फिल्माए वॉर सीन बेहद शानदार हैं. वही आपको यह भी बता दें कि इस फिल्म के जरिए टीवी इंडस्ट्री की जानी-मानी एक्ट्रेस अंकिता लोखंडे भी बॉलीवुड में कदम रखने जा रही हैं.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.