Loading...

होटल में टॉयलेट करने के लिए गया था ये शख्स, फिर मिली ऐसी चीज कि रह गया हैरान

0 33

यह बात तो शायद आप लोगों को पता ही होगी कि सुप्रीम कोर्ट ने देशभर में मौजूद सभी होटल और रेस्टोरेंट को आम लोगों को टॉयलेट और पीने के पानी की सुविधा उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हुए हैं. वही आपको यह भी बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने यह आदेश लोगों को जरूरी सुविधाएं पाने के अधिकार के तहत दिए हैं. वही सुप्रीम कोर्ट के द्वारा लोगों की सुविधा के लिए दिया गया यह अधिकार कई बार उनके लिए मुसीबत ही बन जाता है.

दरअसल एक ऐसा ही मामला सामने आया है जो कि तमिलनाडु का है. यहां पर एक शख्स को टॉयलेट करने के बाद रेस्टोरेंट में बिल थमा दिया. इतना ही नहीं उस रेस्टोरेंट में बिल में जीएसटी और टॉयलेट का पार्सल चार्ज भी जोड़ दिया. हालांकि शख्स को दिया गया बिल इतना भी नहीं था कि वह उसे ना दे पाए, लेकिन इस सब में सबसे बड़ा सवाल यह है कि आखिर होटल या फिर रेस्टोरेंट को टॉयलेट जैसे जरूरी काम के बदले में पैसे चार्ज करने चाहिए या नहीं.

सुप्रीम कोर्ट के द्वारा दिए गए आदेशों के तहत कुछ महीने पहले बेंगलुरु के कुछ रेस्टोरेंट में लोगों को वॉशरूम की सुविधा देने के लिए अनिवार्य कर दिया गया था. वहीं इसके बदले रेस्टोरेंट की ओर से नाममात्र शुल्क लेने की बात भी कही गई थी, लेकिन एक रेस्टोरेंट में तो वॉशरूम के इस्तेमाल के बदले बाकायदा बिल बना कर दे दिया और इतना ही नहीं रेस्टोरेंट ने उस बिल में जीएसटी और पार्सल चार्ज को भी जोड़ दिया. रेस्टोरेंट की ओर से उस शख्स से वसूला गया यह बिल, सोशल मीडिया साइट्स पर खूब तेजी के साथ वायरल हो रहा है.

Loading...

दरअसल बीती 26 जनवरी को बेंगलुरु के रहने वाले एक शख्स ने पेशाब करने के लिए एक रेस्टोरेंट के बाथरूम का उपयोग किया, तो वहीं रेस्टोरेंट ने उस शख्स को पेशाब करने के बदले में 11 रुपए का बिल थमा दिया. उस शख्स को दिए गए 11 रुपए के बिल में 10 रुपए पेशाब करने के लिए, 50 पैसे पार्सल चार्ज और 50 पैसे जीएसटी के रूप में जोड़ दिए गए. रेस्टोरेंट ने जिस शख्स को यह बिल दिया, उसने इस बिल को सोशल मीडिया साइट्स पर शेयर कर डाला.

अब ऐसे में देखा जाए तो एक ओर जहां देश में सार्वजनिक शौचालयों की कमी की बहुत बड़ी समस्या है तो वहीं दूसरी तरफ रेस्टोरेंट जैसी जगहों पर वॉशरूम के उपयोग पर अब जीएसटी देना पड़ रहा है. देखा जाए तो इसे एक तरह से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छ भारत अभियान को बड़ा झटका माना जा सकता है. वॉशरूम के इस्तेमाल के बदले 11 रुपए का भुगतान करने वाले उस शख्स ने बिल की फोटो को शेयर करते हुए, यह भी लिखा है कि यदि इस प्रकार की जरूरी सेवाओं के लिए भी अगर जीएसटी जोड़ा जाने लगा तो इससे देश के लोग बर्बाद हो जाएगा. वही शख्स के द्वारा शेयर किए गए बिल में पार्सल चार्ज, एसजीएसटी और सीजीएसटी के रूप में ली गई राशि साफ देखी जा सकती है.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.