Loading...

PM नरेंद्र मोदी के ऑटोग्राफ ने बदल दी इस लड़की की जिंदगी, अब धड़ाधड़ आ रहे शादी के प्रस्ताव

0 34

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 16 जुलाई को कोलकाता के मिदनापुर में रैली की थी. प्रधानमंत्री जब वहां उपस्थित जनसभा को संबोधित कर रहे थे तो उसी दौरान एक पंडाल गिर जाने की वजह से कई लोग घायल हो गए थे. घायल लोगों को तुरंत ही नजदीकी अस्पताल ले जाया गया. वहीं रैली के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अस्पताल जाकर उन घायलों का हाल-चाल भी जाना. घायलों से मुलाकात करने के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मुलाकात रीता मुडी (19) से हुई. रीता मुडी बांकुड़ा की रहने वाली है और उस दिन वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली में अपनी मां और बहन के साथ आई थी.

घायलों का हाल-चाल जानते-जानते जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रीता के पास पहुंचे तो पहले रीता को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपने पास देखकर बिल्कुल यकीन नहीं हुआ. उसने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को देखकर इस संबंध में अपनी खुशी को जाहिर किया. इसके बाद उसने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उनका ऑटोग्राफ मांगा. वही द टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार रीता ने बताया कि पहले तो प्रधानमंत्री थोड़ा झिझके लेकिन आग्रह किए जाने पर उन्होंने ऑटोग्राफ देते हुए, उस कागज पर यह भी लिखा कि ‛रीता मुड़ी, तुम सदा सुखी रहो.’

वही अब रीता मुडी का कहना है कि प्रधानमंत्री से हुई इस मुलाकात के बाद वह अचानक अब सेलिब्रिटी जैसी हो गई है. रीता के मुताबिक अगले दिन से ही उसके घर पर आने-जाने वालों का तांता लगा हुआ है और वह सभी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उस ऑटोग्राफ को देखना चाहते हैं. इसी बीच रीता की मां ने कहा कि इसके साथ-साथ रीता की शादी के लिए दो ऑफर भी आ चुके हैं. इनमें से एक प्रस्ताव बाकुंडा तो दूसरा झारखंड से आया है, साथ ही यह भी बताया कि इस ऑटोग्राफ़ वाली घटना से पहले रीता की शादी कि एक जगह बात चल रही थी लेकिन लड़के वाले दहेज में 1 लाख रुपए की मांग कर रहे थे. बेहद गरीब परिवार से ताल्लुक रखने वाली बांकुड़ा क्रिश्चियन कॉलेज की द्वितीय वर्ष की छात्रा रीता ने कहा कि फिलहाल उसका पूरा ध्यान अपनी पढ़ाई की तरफ है.

Loading...

उस रैली में पंडाल के गिरने की जानकारी देते हुए प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि उस रैली में कुछ ऐसे लोग थे जो कि शामियाने के ऊपर चढ़ गए थे. जिसको त्रिपाल से ढका हुआ था. वह ढांचा ज्यादा से ज्यादा लोगों के भार को नहीं सह पाया और गिर गया.

वही अधिकारियों ने बताया कि प्रधानमंत्री ने अपने भाषण के बीच में ही उस पांडाल को गिरते हुए देखा था तो उन्होंने तुरंत अपने पास खड़े हुए विशेष सुरक्षा समूह (एसपीजी) कर्मियों को तुरंत लोगों को देखने और घायलों की मदद करने के लिए बोला. वही अधिकारी ने यह भी बताया कि स्थानीय भाजपा इकाई के साथ, मोदी के डॉक्टर एवं एसपीजी कर्मी समित उनके निजी कर्मचारी भी तुरंत हरकत में आ गए और घायलों की मदद करने लगे. वहीं भाजपा के एक पदाधिकारी ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के काफिले में मौजूद एंबुलेंस के जरिए ही उन सभी घायलों को तुरंत ही अस्पताल पहुंचाया गया.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.