Loading...

इस शख्स ने Google की नौकरी को छोड़ शुरू किया समोसे का काम, आज 50 लाख रुपए है कमाई

0 45

आप आईटी फील्ड में काम करने वाले किसी भी शख्स से इस बात को पूछ सकते हैं कि गूगल जैसी कंपनी में काम करना उसका सपना है या नहीं. गूगल जैसी कंपनी में नौकरी मिल जाना मतलब की पूरी जिंदगी शान और आराम से कटेगी. गूगल के एंप्लोई की सैलरी कितनी होती है इसकी शायद आप कल्पना भी नहीं कर सकते, क्योंकि गूगल फ्रेशर्स को भी करोड़ों रुपए का पैकेज दे देती है, लेकिन वही एक ऐसा भी शख्स है जिसने गूगल की अच्छी खासी नौकरी को छोड़ दिया. वह भी किस लिए समोसे बेचने के लिए, अब आप इस शख्स को बेवकूफ ही कहेंगे, लेकिन वही जब आपको पता चलेगा कि 1 साल में ही इस शख्स का टर्न ओवर 50 लाख से ज्यादा हो गया है तो शायद फिर आपकी राय बदल जाएगी. जी हां हम यहां किसी और की नहीं बल्कि ‛द बोहरी किचन’ के मालिक मुनाफ कपाड़िया के बारे में बात कर रहे हैं.

यह सुनने के बाद थोड़ा अजीब जरूर लगता है कि समोसे बेचने के लिए कोई भला गूगल जैसी कंपनी की नौकरी को क्यों छोड़ सकता है, लेकिन यह बिल्कुल सच है. समोसे बेचने के लिए मुनाफ कपाड़िया ने गूगल कंपनी की मोटे पैकेज वाली नौकरी को छोड़ दिया. बात यहीं पर खत्म नहीं हुई समोसा भी बेचा और इसी तरह अपनी कंपनी का सालाना टर्नओवर 50 लाख के पार भी पहुंचा दिया.

मुनाफ ने एक ही झटके में छोड़ दी गूगल की नौकरी. वहीं सोशल मीडिया साइट्स फेसबुक प्रोफाइल में मुनाफ कपाड़िया ने लिखा है कि मैं वह व्यक्ति हूं जिसने समोसे को बेचने के लिए गूगल की नौकरी को ठोकर मार दी. आपको यह भी बता दें कि मुनाफ के समोसे की खासियत यह है कि वह मुंबई के पांच सितारा होटलों और बॉलीवुड में सबसे ज्यादा लोकप्रिय है. मुनाफ कपाड़िया ने MBA की पढ़ाई की हुई है. इसके बाद मुनाफ ने कई कंपनियों में नौकरी की और उसके यह विदेश चले गए. विदेश जाने के बाद मुनाफ ने वहां कई कंपनियों में इंटरव्यू दिया और आखिर उन्हें गूगल में नौकरी मिल गई. कुछ सालों तक मुनाफ ने गूगल में नौकरी की. वही जब मुनाफ को लगा कि वह इस से भी बेहतर कुछ काम कर सकते हैं तो बस फिर क्या था मुनाफ वापस लौटकर अपने घर पर आ गए.

Loading...

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि मुनाफ कपाड़िया भारत में ‛द बोहरी किचन’ नाम का रेस्टोरेंट चलाते हैं. मुनाफ ने बताया कि उनकी मां नफीसा को टीवी देखने का काफी शौक था और वह टीवी के सामने अक्सर काफी समय बिताती थी और उन्हें टीवी पर फूड शो देखना सबसे ज्यादा अच्छा लगता था. इसलिए वह खाना भी एकदम लाजवाब बनाती थी. बस मुनाफ को यह लगा कि वह अपनी मां से टिप्स लेकर फूड चेन खोलेंगे. उन्होंने रेस्टोरेंट खोलने के बारे में प्लानिंग कर ली और अपनी मां के हाथों का बना खाना कई लोगों को खिलाया. हर किसी ने उनके खाने की जमकर तारीफ की. इससे मुनाफा आत्मविश्वास और ज्यादा बढ़ गया और इसके बाद मुनाफ अपने इस सपने को सच करने में लग गए.

वही आपको यह भी बता दें कि ‛द बोहरी किचन’ का समोसा ना सिर्फ मुंबई में बल्कि देश भर में काफी मशहूर है. मुनाफ के रेस्टोरेंट में केवल समोसे ही नहीं मिलते हैं और आपको बता दें कि मुनाफ कपाड़िया का समोसा ट्रेडमार्क जरूर है. मुनाफ कपाड़िया जिस दाऊदी बोहरा समुदाय से ताल्लुक रखते हैं. उस समुदाय में डिशेस काफी शानदार होती हैं जैसे की नरगिस कबाब, मटन समोसा, डब्बा गोश्त और कढ़ी चावल. मुनाफ के ‛द बोहरी किचन’ में आपको ही सभी डिश मिलेंगी. मुनाफ को रेस्टोरेंट को खोलें अभी 1 साल ही हुआ है और उनके रेस्टोरेंट का टर्नओवर 50 लाख रुपए के पार पहुंच गया है. वहीं मुनाफ का कहना है कि वह अगले कुछ सालों में अपने रेस्टोरेंट के टर्नओवर को 3 से 5 करोड़ पहुंचाना चाहते हैं.

मुनाफ के रेस्टोरेंट ‛द बोहरी किचन’ के लाजवाब खाने की कई बॉलीवुड सेलेब्स भी तारीफ कर चुके हैं. जी हां मुनाफ के इस रेस्टोरेंट में आशुतोष गोवारिकर और फराह खान जैसी मशहूर बॉलीवुड हस्तियां भी खाने का लुफ्त उठा चुकी हैं और सोशल मीडिया साइट्स पर मुनाफ के रेस्टोरेंट की जमकर तारीफ कर चुकी हैं.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.