Loading...

500 साल से बर्फ में दबी थी ये लड़की, स्किन काटी तो निकल आया खून, डॉक्टर भी हुए हैरान

0 128

आज से ठीक 2 साल पहले वैज्ञानिकों ने बर्फ में मिली 500 साल पुरानी ममी को लेकर कई प्रकार के दावे किए थे। जांच के आधार पर यह ममी इंका ट्राइब्स लड़की की है। जांच में यह भी पता चला है कि मौत के समय यह लड़की बैक्टीरियल इन्फेक्शन से पीड़ित थी और इस इन्फेक्शन के लक्षण टीबी के लक्षण से बिल्कुल मिलते-जुलते थे।

यह ममी काफी बेहतरीन हालत में मिली थी। क्योंकि एक नजर देखने पर लगता था कि इस लड़की की मौत अभी 2 दिन पहले ही हुई है। क्योंकि इस ममी के बाल और बॉडी से इसकी मौत का सही समय पता लगा पाना बहुत मुश्किल था। वैज्ञानिकों का कहना है कि इस बॉडी को देखकर तो लगता है कि जैसे अभी 2 दिन पहले ही इसकी मौत हुई होगी। इसके साथ ही डॉक्टर्स ने यह दावा किया है कि इस ममी के खून से कई बीमारियों को ठीक किया जा सकेगा।

लंग्स इंफेक्शन के भी लक्ष्म मिले इस ममी के शरीर में

Loading...

आपको बता दें, इस ममी पर न्यूयॉर्क सिटी यूनिवर्सिटी के जस्टिस एंजेलिक कोर्थल्स अध्य्यन कर रहे थे। एंजेलिक की टीम ने ममी के हाथ साफ करके प्रोटीन टेस्ट लेने पर पाया कि इसके शरीर मे सांस से संबंधित कोई समस्या थी। इसके अलावा एक्सरे और खून जांच की रिपोर्ट से मौत के समय लंग्स इन्फेक्शन के लक्षण भी मिले। डॉक्टर्स का कहना है कि इस ममी के खून से कई बीमारियों को ठीक किया जा सकता है।

बिल्कुल जिंदा इंसान जैसी है इस ममी की त्वचा

आपको बता दें, इस ममी को अर्जेंटीना के एक ज्वालामुखी के ढेर, जो समुद्र तल से 22 हजार फीट ऊंचा है, से सन् 1999 में खोज गया था। वैज्ञानिको का कहना है कि जब इस ममी को पहलीबार देखा गया तो इसके हाथ एक जिंदा इंसान के जैसे प्रतीत हो रहे थे। इसके अलावा जांच में इस ममी के बालों में जूं जानवर भी पाया गया। एक्सपर्ट का मानना है कि किसी सामाजिक रीति रिवाज ओर परम्परा के चले हो सकता है कि इस लड़की की बाली दी गयी हो।

बड़े केस या मिस्ट्रीज सुलझाने में होगी मदद

एंजेलिक का कहना है हमे इस ममी से कई तरह के पुराने राज खोलने के काफी मदद मिलेगी। इसके अध्ययन से सन् 1918 में फ्लू की वजह से हुई तबाही की असली वजह को जान पाएंगे। इसके अलावा कई प्रकार के साइंटिफिक मामलो को भी समझने में काफी मदद मिलेगी।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.