Loading...

गठिया सहित कई रोगों के लिए बहुत कारगर है यह चाय, जाने कैसे बनाएं यह चाय

0 22

बढ़ती उम्र के साथ साथ गठिया की समस्या भी बढ़ती जाती है। गठिया की बजाय, गाउट और अर्थराइटिस के नाम से भी जाना जाता है। गठिया रोग से पीड़ित लोगों के हड्डियों ओर जोड़ो में भयंकर दर्द रहने लगता है। गठिया रोग मुख्यत इंसान के शरीर मे यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ने के कारण होता है।

वैसे तो इसका कोई पुख्ता इलाज नहीं है लेकिन आज हम आपको एक ऐसी चाय के बारे में बताएंगे जिसके सेवन से आप काफी हद तक इस गठिया की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं।

यह है वो स्पेशल चाय जो गठिया में होती है लाभदायक

Loading...

आपने रेड टी, ग्रीन टी, ब्लैक टी ओर दूध वाली चाय के बारे में जरूर सुना होगा लेकिन आपने पपीते की चाय ले बारे में शायद ही कभी सुना हो। लेकिन विज्ञान में इस चाय का बहुत महत्व है। पपीते की चाय इंसानी शरीर मे जमा यूरिक एसिड की मात्रा को काफी हद तक कम करती है। जिससे शरीर मे आयी सूजन भी कम होती है।

ऐसे बनाएं यह चाय

इस चाय को बनाने के लिए 180 ग्राम कच्चे पपीते ओर 800 ग्राम पानी के साथ 2 ग्राम ग्रीन टी बैग की आवश्यकता होती है। सबसे पहले एक पैन में पानी और पपीते को लगभग 20 मिनट तक भली-भांति उबालें। इसके बाद इसे बारीक छन्नी की सहायता से छान लें। अब इस मिश्रण को एक कप में लें और इसमें ग्रीन टी बैग डीप कर दें। अब आपकी पपीते वाली चाय पूरी तरह से तैयार है।

पपीते की चाय से होने वाले फायदे

पपीते की चाय से शरीर मे हो रही प्लेटलेट्स की कमी बहुत जल्द पूरी हो जाती है। इसके अलावा पाचन तंत्र की मजबूती में भी यह चाय मददगार होती हैं। शरीर मे हुई सूजन को भी कम करने में मदद मिलती है। इसके साथ ही शरीर से विषाक्त पदार्थ को मल मूत्र की सहायता से बाहर निकलने में पपीते की चाय काफी उपयुक्त होती है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.