Loading...

13 जुलाई को सूर्यग्रहण और अमावस्या, इन तीन राशियों के लिए रहेगा अशुभ, बचने के लिए करें यह आसान उपाय…

0 35

आने वाली 13 जुलाई को इस वर्ष का दूसरा सूर्यग्रहण लगेगा। इसके साथ ही 13 जुलाई को अमावस्या भी है। तो यहएक बेहद ही दुर्लभ संयोग है जब अमावस्या ओर सूर्यग्रहण एक साथ हो। इस दुर्लभ संयोग का दो राशियों पर बहुत बुरा असर पड़ने वाला है। लेकिन कुछ उपाय करके इन दो राशियों के जातक खुद को इस बला से छुटकारा दिला सकते है।

Loading...

जानकारी के मुताबिक पण्डित नारायण मिश्र का कहना है कि यह सूर्यग्रहण 2.25 घण्टे तक रहने वाला है। यह सूर्यग्रहण पुनर्वसु नक्षत्र और हर्षण योग में पड़ने वाला है जो सुबह की 7 बजकर 29 मिनट से शुरू होकर सुबह की 9 बजकर 44 मिनट तक रहेगा।

Loading...

आपको बता दें, 13 जुलाई को पढ़ने वाले इस ग्रहण का पूर्ण स्पर्श सुबह 7 बजकर 14 मिनट पर होगा और इस ग्रहणकाल का मोक्ष सुबह 9 बजकर 44 मिनट पर होना है। इस ग्रहण पर 12 घंटे पहले ही सूतक लग जायेगा। और इस सूर्यग्रहण के 15 दिन बाद चन्द्रग्रहण पड़ना है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें, की यह सूर्यग्रहण भारत मे दिखाई नहीं देगा। वही ज्योतिषियों के कहना है कि यह ग्रहण उदयमान सूर्य देव पर पड़ रहा है। इसलिए इससे संबंधित कुछ मान्यताएं भी हैं जिनका हमें पालन करना चाहिए।

यह सूर्यग्रहण मिथुन राशि के आद्रा नक्षत्र में लगेगा। राहु का नक्षत्र भी आद्रा है। इसलिए राहु नक्षत्र वाली राशियां जैसे मिथुन, कर्क, सिंह राशि पर बुरा असर पड़ने वाला है। इन राशि के जातकों को कष्टों का सामना करना पड़ सकता है। इस दौरान स्वास्थ्य सम्बंधित समस्याएं भी हो सकती है। साथ ही आर्थिक मामलों में भी काफी नुक्साम हो सकता है।

इसके विपरीत इस सूर्यग्रहण से मेष, कन्या, वृश्चिक और मिथुन राशि के जातकों को फायदा होगा। इस सूर्यग्रहण के कुप्रभाव से बचने के लिए मिथुन, कर्क ओर सिंह राशि के जातक भगवान भोलेनाथ का जाप करें। इसके अलावा सुबह साफ पानी से नहाकर जब तक सूर्यग्रहण हो तब तक अपने मुंह मे तुलसी का पता रखें। इससे इस ग्रहण का दुष्प्रभाव आप पर नहीं पड़ेगा।

13 जुलाई को इस ग्रहण के साथ अमावस्या भी है जो सुबह 8 बजकर 17 मिनट तक रहेगी। शास्त्रों के अनुसार यह ग्रहण करके लग्न और मिथुन राशि मे होना है। इन सब मे खास बात यह है कि ग्रहण के दौरान सूर्य और चंद्रमा दोनों मिथुन राशि मे रहेंगे ओर साथ ही इसके बुध और राहु इसके लग्न में रहेंगे।

विशेष:- 13 जुलाई को ही ओडिशा के जग्गनाथ मंदिर के पट जनता के दर्शनार्थ खोल दिए जाएंगे।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.