Loading...

अपने पति को छोड़कर आई प्रेमिका, प्रेमी चाहता था उससे पीछा छुड़ाना और फिर….

0 32

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर जिले का एक मामला सामने आया है। जहां पर एक विवाहित युवती की हत्या उसी के प्रेमी ने कर दी। जिसके लिए ये युवती अपने पति को छोड़कर चली आई थी। दरअसल डॉली ने यह फैसला कर लिया था कि वह अपने पति के घर को अब छोड़ देगी। डॉली राजकुमार के प्यार में पागल हो चुकी थी। उसे अब किसी भी बात की कोई चिंता नहीं थी। लेकिन डोली को इस बात की कोई भी जानकारी नहीं थी कि राजकुमार का इरादा उसके बराबर या उसके जितना मजबूत नहीं है। डोली के द्वारा उठाया गया यह कदम उसी के लिए जानलेवा साबित हो गया और यह सब डोली को कुछ दिन बाद समझ में आया।

13 अप्रैल की बात है जब डॉली बुलंदशहर स्थित अपने पति का घर छोड़ कर उसी शहर में रहने वाले राजकुमार के घर पर चली गई। डोली राजकुमार के साथ ही जिंदगी जीना चाहती थी। लेकिन राजकुमार को डोली के द्वारा लिए गए इस फैसले पर काफी हैरानी हुई कि वह सब कुछ छोड़ कर मेरे पास चली आई। राजकुमार ने जब डॉली को अचानक ही अपने घर पर देखा तो वह सकपका गया। राजकुमार ने डोली से कहा कि उसने यह सब उसने बिल्कुल सही नहीं किया। लेकिन जब वही डॉली ने उसको मनाया तो वह मान गया और फिर शाम को काम से लौटने की बात कहकर वह घर से दफ्तर के लिए चला गया।

राजकुमार पूरा दिन दफ्तर में बस यही सोचता रहा कि आखिर वह क्या करें। राजकुमार को इस बारे में बिल्कुल भी समझ नहीं आ रहा था कि वह आखिर डोली के साथ इस समाज में कैसे रहेगा। लोग उसके बारे में क्या कहेंगे और डॉली का पति अब क्या करेगा। इतना कुछ सोचने के बाद राजकुमार अपने प्रेम को इतना मजबूत नहीं देख पा रहा था कि वह इस तरह के फैसले को मंजूर कर ले।

13 अप्रैल की शाम की बात है जब राजकुमार अपने दफ्तर से घर वापस लौटा। घर लौटने के बाद राजकुमार ने डॉली को समझाया कि वह अपने घर वापस लौट जाए इसके साथ ही राजकुमार ने डाली से यह भी कहा कि उसे अपने इस रिश्ते के बारे में सोचने के लिए थोड़ा वक्त जरूर चाहिए। लेकिन डॉली ने राजकुमार की एक बात नहीं मानी डॉली ने अपने प्रेम में डूबे शब्दों और रूपों के अंदाज से राजकुमार को उस वक्त बिलकुल शांत कर दिया। फिर अगले दिन की सुबह हुई और राजकुमार एक बार फिर अपने दफ्तर चला गया। राजकुमार फिर यही सोचता रहा कि आखिर डॉली को कैसे समझाया जाए ताकि वह उसके घर से अपने पति के पास वापस चली जाए। लेकिन वही दूसरी तरह जब डॉली के पति को डॉली घर पर नहीं मिली तो उसने डोली कि आसपास तलाश शुरू की और आखिर में आकर गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करा दी।

Loading...

राजकुमार को भी इधर यही डर लग रहा था कि जब डोली किसी को नहीं मिलेगी तो उसकी तलाश शुरू हो जाएगी और आज नहीं तो कल पुलिस उसे ढूंढ़ ही निकालेगी। राजकुमार के दिमाग में बस यही चल रहा था कि एक तरफ तो शादीशुदा औरत के साथ प्रेम संबंध बनाने का राज खुलने से कितनी बदनामी होगी तो वहीं दूसरी तरफ उसके दिमाग में यह भी चल रहा था कि पुलिस कहीं किसी आरोप में उसे पकड़ ना ले। तमाम तरह के डर राजकुमार के दिमाग में घूम रहे थे और उसे परेशान कर रहे थे।

वही एक बार फिर राजकुमार ने डॉली को प्यार से समझाया। लेकिन अपनी जिद्द पर अड़ी हुई डॉली ने कहा कि अब उसे कौन स्वीकारेगा। डॉली ने कहा कि अब तो उसका जीना मरना सब राजकुमार के साथ ही होगा। कुछ दिन गुजर गए और ऐसे में राजकुमार हर कोशिश हार चुका था। डोली की जिद के आगे हारने के बाद और अपने डर की वजह से राजकुमार ने डोली से कुछ दिनों के लिए अपने दूसरे मकान में चलने के लिए कहा।

28 अप्रैल की बात है जब दोनों अपने उस घर से दूसरे घर में चले गए। वही राजकुमार जब बार-बार डोली को समझाता रहा तो इसी बात को लेकर 2 मई के दिन डॉली गुस्से में आग बबूला हो गई और उसने राजकुमार को खरी-खोटी सुना दी। डॉली ने कहा कि प्यार तो आशिको वाला करना है लेकिन साथ रहना बिल्कुल पसंद नहीं है। यह कोई बात नहीं हुई। डॉली ने इसी तरह के कई और ताने राजकुमार को मारे और उसे खोखला साबित कर दिया। तो वहीं राजकुमार भी पूरी तैश से आ गया। राजकुमार इस जगह पर डॉली की जिद से परेशान होकर ही आया था। यह सोचकर कि इस जगह आने के बाद वह कोई फैसला जरूर करके जाएगा।

और ऐसे में डॉली ने यह झगड़ा करके राजकुमार को एक बहाना भी दे दिया। राजकुमार ने तैश में आ जाने के साथ डोली के साथ मारपीट कर दी। वही जब राजकुमार ने आसपास देखा तो उसे कोई भी हथियार नहीं दिखाई दिया। ऐसे में राजकुमार ने अपनी अंगोछे को अपना हथियार बना लिया और उसी से डॉली का गला घोट दिया। थोड़ी देर के बाद डॉली ने तड़प-तड़पकर अपना दम तोड़ दिया। डॉली की हत्या करने के बाद उसकी बॉडी के पास बैठे हुए राजकुमार ने थोड़ी देर ठंडे दिमाग से कुछ सोचा और फिर डॉली की लाश को उठाया और हाईवे के पास मौजूद झाड़ियों में फेंककर वहां से चला गया।

वही डॉली के पति के द्वारा पुलिस में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराए जाने के बाद पुलिस डॉली की हर जगह तलाश कर रही थी। और ऐसे में पुलिस को डॉली की लाश बरामद हुई। उस लाश की पहचान कराने के लिए पुलिस ने सोशल मीडिया साइट्स का सहारा लिया और जल्द ही पुलिस को उस लाश की पहचान मिल गई। पुलिस को सोशल मीडिया साइट्स के जरिए मिले फोन डिटेल्स के सुराग से ही राजकुमार की जानकारी मिली और उसे गिरफ्तार कर लिया गया। गिरफ्तार हो जाने के बाद राजकुमार ने अपने जुर्म को कबूल कर लिया। और फिर इस पूरे जुर्म की कहानी को पुलिस को बताया।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.