Loading...

सड़क पर ही लेट गई मां जब नहीं उठी तो घसीटकर ले गया बेटा, लेकिन मां ने कहा कुछ ऐसा

0 95

दरअसल आज हम आपको जिस कहानी के बारे में बताने वाले हैं। वह कहानी पतासी देवी की है। इस कहानी में गुस्से, दर्द, ममता और शर्म हर तरह के रंग है। 3 साल के अंदर पतासी देवी ने अपने दो बेटों की मौत देखी है। पतासी देवी मानसिक रूप से बीमार है। सोमवार की बात है जब पतासी देवी अचानक ही सड़क पर लेट गई। वही गांव वालों ने पहले तो पतासी देवी को काफी उठाने की कोशिश की। लेकिन जब वह नहीं मानी तो गांव वालों ने उनके मंझले बेटे धनाराम को इसके बारे में बता दिया। धनाराम आया और मां से घर चलने के लिए कहा मां ने जब मना कर दिया तो उसने मां का हाथ पकड़ा और उसे घसीटकर घर ले गया।

इस दौरान मां चीखती चिल्लाती रही लेकिन कोई भी गांव वाला मां बेटे के बीच में नहीं आया। हां किसी ने वीडियो जरूर बना लिया। वही जब वीडियो सामने आ गया तो पुलिस भी सक्रिय हो गई और पुलिस ने मां बेटे को थाने में बुला लिया। लेकिन कहते हैं ना मां तो आखिर मां ही होती है। थाने में मां ने पुलिस के सामने आई ऐसी कोई भी घटना से साफ मना कर दिया। साथ ही यह भी कहा कि बेटा बिल्कुल शराब नहीं पीता है। उसकी मानसिक स्थिति ही खराब है। इसी वजह से वह बीच सड़क पर लेट गई थी।

सोनी परिवार की कहानी काफी दर्द से भरी हुई है। दरअसल पतासी देवी के तीन बेटे थे। सबसे बड़े बेटे की 3 साल पहले और छोटे बेटे की 1 साल पहले मौत हो गई थी। अपने दो बेटों को खोने के बाद पतासी देवी की मानसिक स्थिति बिल्कुल खराब हो गई। घर में आए दिन रोजाना झगड़े होने शुरू हो गए। घर में एकमात्र बेटा धनाराम ही बचा था। धनाराम की पत्नी की भी यह सब देखकर मानसिक स्थिति बिल्कुल खराब हो गई।

इस सब के बाद धनाराम ने भी शराब पीना शुरु कर दिया। वही जब सोमवार को इस पूरी घटना से जुड़ा हुआ एक वीडियो सोशल मीडिया साइट्स पर वायरल हुआ। तो जोधपुर के खेड़ापा थाना अधिकारी सुरेंद्र उस गांव पहुंच गए और फिर मां बेटे को थाने बुलाया और पूछताछ की। वही पतासी देवी को जब वीडियो दिखाई गई तो पतासी देवी ने वीडियो में दिखाई घटना होने से साफ मना कर दिया। साथ ही उसके परिवार के ऊपर टूटे दुखों की कहानी पुलिस को बताया और अपने बेटे का बचाव किया और साथ ही कहा कि बेटे ने किसी प्रकार का कोई भी दुर्व्यवहार किया ही नहीं है तो मैं आख़िर किस बात की शिकायत आप लोगों से करूं।

Loading...

जब मैंने अपने दो बेटों को खो दिया तो उसके बाद मेरी मानसिक स्थिति बिल्कुल खराब हो गई। वही जब मैं सोमवार को सड़क पर बीचों-बीच लेट गई तो मेरा बेटा मुझे जबरदस्ती घर ले जाने का प्रयास करने लगा। जैसा आप लोग बता रहे हैं वैसा कुछ भी नहीं हुआ था। मेरा बेटा पहले काफी मारपीट किया करता था। लेकिन पिछले कई दिनों से उसने शराब पीना भी बिल्कुल बंद कर दिया है। अब वह मुझसे कुछ नहीं कहता है। – पतासी देवी

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.