Loading...

क्रिकेटर गौतम गंभीर ने साधा करणी सेना पर निशाना और कहा यह

0 25

संजय लीला भंसाली द्वारा निर्देशित फिल्म “पद्मावत” को लेकर करणी सेना लगातार विरोध कर रही है। वही बीते बुधवार को फिल्म “पद्मावत” को लेकर हरियाणा के गुरुग्राम में करणी सेना ने नारेबाजी की। साथ ही एक स्कूल की बस पर पत्थरबाजी भी की। इस पत्थरबाजी में स्कूल के कई बच्चे घायल हो गए। वही उपद्रवियों के द्वारा की गई। इस पत्थरबाजी में कई बच्चे घायल हुए। साथ ही उस स्कूल बस को आग लगाने की कोशिश भी करी गई।

हालांकि आपको यह भी बता दें कि नारेबाजी कर रहे उन लोगों को यह नहीं पता था। कि उस स्कूल बस के अंदर छोटे-छोटे बच्चे मौजूद हैं। हादसे का शिकार हुई स्कूल बस गुरुग्राम स्थित जी डी गोयनका स्कूल की है। वही करणी सेना के द्वारा कही गई इस हरकत को लेकर करणी सेना की चारों तरफ खूब आलोचना भी हुई है। वही करणी सेना के द्वारा किए गए इस हादसे के बाद लोगों ने हरियाणा की मनोहर सरकार पर भी खूब निशाना साधा गया।

वही करणी सेना पर निशाना साधने के क्रम में अब टीम इंडिया से बाहर चल रहे स्टार बल्लेबाज गौतम गंभीर भी कूद पड़े हैं। बल्लेबाज गौतम गंभीर ने बेहद कड़े शब्दों में इस पूरे घटनाक्रम की आलोचना की है। और साथ ही फ्रीडम स्पीच और एक्सप्रेशन में स्कूली बच्चों पर की गई पत्थरबाजी को बेहद अपमानजनक बताया। और साथ ही बेहद खतरनाक। वही मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो इस स्कूल बस के अंदर करीब 22 बच्चे और 3 स्कूल के टीचर सवार थे। जिस स्कूल बस पर करणी सेना के लोगों ने पत्थरबाजी की। तो उसके बाद में वहां मौजूद कुछ युवा लोगों ने और साथ ही पुलिस ने वहां से उपद्रवियों खदेड़ा। तब हंगामा कर रहे लोग वहां से भागे।

Loading...

बल्लेबाज गौतम गंभीर ने सोशल मीडिया साइट ट्विटर पर ट्वीट करके लिखा “अभी हम कुछ घंटे पहले ही फ्रीडम ऑफ स्पीच को लेकर अपना गला फाड़-फाड़कर चिल्ला रहे थे। और वहीं कुछ लोग अपनी इस स्वतंत्रता को स्कूल बस में सवार बच्चों पर पत्थर फेंक के दिखा रहे थे। साथ ही गौतम गंभीर ने आगे कहा कि कुछ ही घंटों में हम एक देश के रूप में राजपथ पर अपनी बाहों को रगड़ते हुए भी नजर आएंगे। और इस बेतुके विरोधाभास का आखिर कब खात्मा होगा”।

स्कूल बस पर की गई इस पत्थरबाजी की घटना का वीडियो सोशल मीडिया साइट पर बहुत तेजी के साथ वायरल हो रहा है। और यह हृदय हिला देने वाला वीडियो है। वहीं बहुत से लोगों ने इस घटना को बेहद खतरनाक और गंभीर बताया है। और साथ ही 21वीं सदी के अनुसार भारत के लिए इस तरह की घटनाओं को सबसे बड़ा खतरा बताया।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.