Loading...

​बहाने से महिला को बुलाया ऑफिस में और की महिला के प्राइवेट पार्ट से छेड़छाड़

0 40

महिला के साथ शोषण का एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। दरअसल उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में एक कंपनी के अधिकारियों ने महिला को फाइनेंस पर गाड़ी दिलाने का बहाना देकर अपने ऑफिस में बुलाया। और उसके बाद दरवाजा बंद करके महिला के साथ छेड़छाड़ की। इतना ही नहीं छेड़छाड़ के साथ-साथ उन्होंने महिला के प्राइवेट पार्ट के साथ भी खिलवाड़ किया। वही जब महिला ने इसका विरोध किया। तो उसके साथ मारपीट की गई। वही थाना जनकपुरी में आरोपियों के खिलाफ FIR दर्ज हो गई है।

दरअसल ये पूरा मामला थाना कुतुबशेर के गांव इस्माइलपुर का है। यहां के रहने वाले विकास अवस्थी की पत्नी विभा देवी ने बताया कि उन्होंने एक गाड़ी फाइनेंस पर खरीदने के लिए लिंक रोड स्थित सचिन कुमार के श्रीराम ट्रांसपोर्ट कंपनी पर संपर्क किया था। वही विवाहिता ने यह भी आरोप लगाया है। कि गाड़ी फाइनेंस कर देने का झांसा देकर फाइल और अन्य खर्चों के नाम पर इस कंपनी के जी एम सचिन कुमार ने उससे नगदी भी हड़प ली। लेकिन गाड़ी फाइनेंस करके नहीं दी। उसके बाद उसने मुझे बहाने से अपने ऑफिस में बुलाया।


वही विभा देवी ने यह भी आरोप लगाया है। कि जब वह लिंक रोड स्थित रंजीत नगर में आरोपी के कार्यालय पर पहुंची। तो वहां कंपनी का GM सचिन कुमार और उसके साथी कंपनी का लीगल एडवाइजर विकास कुमार, सहायक प्रबंधक नरेंद्र राणा और रिकवरी एजेंट अंशुल कुमार भी ऑफिस में मौजूद थे। इन चारों पर आरोप हैं कि इन चारों ने मिलकर महिला के साथ छेड़खानी करनी शुरू कर दी। और महिलाओं को बदनीयत से पकड़ लिया। वही जब महिला ने अपने बचाव में शोर मचाया। तो इन चारों ने महिला के साथ गाली-गलोज करते हुए मारपीट भी कि। वही इन चारों ने महिला को कार्रवाई करने पर धमकी भी दी है।


पीड़िता इन चारों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराने थाने में पहुंच गई थी। लेकिन पुलिस ने पीड़िता की नहीं सुनी। इसके बाद पीड़िता ने आरोपियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए कोर्ट का सहारा लिया। वही इस्पेक्टर शैलेंद्र कुमार शर्मा ने बताया कि कोर्ट के आदेश के बाद पुलिस ने उन चारों आरोपियों के खिलाफ धोखाधड़ी, गबन, षड्यंत्र, मारपीट, धमकी और छेड़छाड़ का मामला दर्ज कर लिया है। और पुलिस इस पूरे मामले की निष्पक्ष जांच कर रही है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.